सतपुड़ा ताप विद्युत गृह सारनी से हजारों लीटर ऑयल सतपुड़ा जलाशय में बहाया गया

Scn news india

आशीष उघड़े सारनी सिटी रिपोर्टर 

सतपुड़ा ताप विद्युत गृह प्रबंधन सारनी पर्यावरण को लेकर कितना गंभीर है इस पर लगातार सवाल उठते रहे हैं, ताज़ा मामला सोमवार को देर रात का हैं जहां सतपुड़ा ताप विद्युत गृह के कोल हैंडलिंग प्लांट से भारी मात्रा में ऑयल सतपुड़ा जलाशय में बहाया जा रहा है।


एक तरफ चाइनीज़ झालर से सतपुड़ा जलाशय प्रदूषित है वहीं दूसरी तरफ प्लांट प्रबंधन के माध्यम से इस तरह से सतपुड़ा जलाशय में खुलेआम ऑयल बहाना कई सारे सवालों को जन्म देता है। ऐसा प्रतीत होता है की नियम-कानूनों का कोई डर सतपुड़ा ताप विद्युत गृह सारनी प्रबंधन को नहीं रह गया है।
जिला प्रशासन और मध्य प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड पर्यावरण संरक्षण को लेकर पूर्ण रूप से विफल साबित हो रहे हैं । इसी का नतीजा है कि आज बेखौफ तरीके से सतपुड़ा जलाशय में हजारों लीटर ऑयल बहाया जा रहा है, जिससे ना सिर्फ मछलियां मर रही हैं बल्कि पानी पर निर्भर करने वाले जलीय पक्षियों का जीवन भी संकटग्रस्त हो गया है और जलाशय का पानी भी प्रदूषित हो रहा है।


गौरतलब है कि सतपुड़ा जलाशय सारनी से नगरपालिका सारनी क्षेत्र में जलापूर्ति की जाती है इसके बाद भी सतपुड़ा ताप विद्युत गृह सारनी प्रबंधन जलाशय को लेकर लगातार असंवेदनशील हैं और लापरवाही बरत रहा है ।
मध्य प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और एनजीटी की गाइड लाइन का लगातार सारनी में प्लांट प्रबंधन द्वारा उल्लंघन किया जाता रहा है, इस संबंध में कई शिकायतें करने के बाद भी कोई ठोस कार्यवाही नहीं होने की वजह से बार-बार इस तरह की घटनाएं क्षेत्र में सामने आ रही है, जिससे क्षेत्र में रहने वाले लोगों के स्वास्थ्य को लेकर लगातार संकट बढ़ रहा है और जलाशय बुरी तरह से प्रदूषित हो रहा हैैं।