एक दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार का सफल आयोजन वेबिनार में वक्ताओं ने बताया चुनौतियों को अवसर में बदलने की आवश्यकता

Scn news india

नवील वर्मा ब्यूरों
शासकीय महाविद्यालय शाहपुर द्वारा एक दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया। इस वेबिनार में मध्यप्रदेश तथा अन्य दूसरे राज्यों के महाविद्यालयो और विश्वविद्यालयों के शिक्षको, रिसर्च स्कॉलर्स तथा छात्रों ने हिस्सा लिया। “कोविड-19 महामारी के दौरान उच्च शिक्षा की नवीन चुनौतियाँ” विषय पर वेबिनार में चर्चा हुई। प्रमुख वक्ता के रूप में अल्पाइन पी. जी. महाविद्यालय देहरादून, उत्तराखंड के प्राचार्य एवम् पूर्व वरिष्ठ वैज्ञानिक भारत सरकार डॉ. वी.पी. शर्मा तथा श्री शिवाजी साइंस,आर्ट एंड कॉमर्स महाविद्यालय आकोला,महाराष्ट्र के प्रोफेसर डॉ. दीपक कोचे ,भीमराव अंबेडकर महाविद्यालय आमला जिला बैतूल के प्रोफेसर डॉ पी.के.मिश्रा,कॅरियर महाविद्यालय भोपाल के प्रोफेसर डॉ. मानिक शर्मा प्रमुख रूप से आमंत्रित थे।
वेबिनार को शुरू करते हुए शासकीय महाविद्यालय शाहपुर के प्राचार्य प्रोफेसर एम.डी.वाघमारे ने कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के कारण ग्रामीण विद्यार्थियों की उच्च शिक्षा पर प्रभाव एवं समस्याओं की ओर ध्यान आकृष्ट किया ।

कार्यक्रम के सयोंजक डॉ शीतल चौधरी ने बताया की इस वेबिनार में 211 प्रतिभागियों ने भाग लिया एवं मुख्य वक्ताओ द्वारा कोविड 19 महामारी पर अपने विचार रखे गए। मुख्य वक्ताओं ने बताया की कोविड 19 महामारी के दौरान हमें विभिन्न क्षेत्रों मे चुनौतियां मिल रही है जिन्हे अवसरो मे बदलना है तथा विज्ञान के छात्रों को शोध कार्य को चुनौती के रूप मे अपनाना चाहिए इस अवसर पर प्रोफेसर और शोधार्थीयो द्वारा आपने शोध पत्रों का सारांश प्रस्तुत किया गया।शासकीय महाविद्यालय शाहपुर के वाणिज्य विषय के प्रोफेसर डॉ. संजय बाणकर द्वारा कोविड 19 महामारी का भारत की अर्थव्यवस्था पर प्रभाव एवं जे.एच.शासकीय पी.जी.महाविद्यालय बैतूल के प्रोफेसर डॉ.सुखदेव डोंगरे ने कोविड19 महामारी का ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यार्थियों पर प्रभाव पर अपने विचार रखे । साथ ही बरकतुल्ला विश्वविद्यालय की शोधार्थी कु.छाया शाक्य और पदमावती महाविद्यालय के प्रो रोहित जैन ने भी कोविड 19 महामारी का उच्च शिक्षा पर प्रभाव विषय पर शोध पत्र का सारांश प्रस्तुत किया।उक्त वेबीनर का सजीव प्रसारण जूम एप तथा यूट्यूब लाइव के माध्यम से किया गया। वेबिनार का समापन करते हुए डॉक्टर नितेश पाल द्वारा सभी मुख्य वक्ताओं, प्रोफेसर्स ,शोधार्थी एवं विधार्थियो को धन्यवाद दिया एवं उनका आभार वयक्त किया।