जमीनों पर जबरन कब्जा और महिलाओं, लड़कियों के शारीरिक शोषण के आरोप -जनजाति विकास मंच ने सौपा ज्ञापन

Scn news india

नवील वर्मा ब्यूरों 

शाहपुर -जनजाति विकास मंच विकासखंड शाहपुर के द्वारा  प्रदेश में अनुसूचित जनजाति समुदाय के लोगों की जमीनों पर अन्य लोगों द्वारा जबरन कब्जा कर हड़पने एवं जनजाति समुदाय की महिलाओं, लड़कियों को शारीरिक शोषण का शिकार बनाने के मामलो को ले कर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व शाहपुर को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा।  उन्होने ज्ञापन में कहा है कि मध्य प्रदेश में हमारे जनजाति समुदाय के लोगों पर लगातार हमले हो रहे हैं। हमारी जमीनों को जबरन डरा धमकाकर हड़पा जा रहा है। हमारी माँ – बहिनों का शारीरिक शोषण किया जा रहा है। इस संबंध में हमें कहीं से कोई न्याय नहीं मिलता है।


अभी हाल ही में 19 /7/2020 को एक भयंकर घटना हमारे जनजाति समुदाय के लोगों के साथ गुना जिले में हुई हैl जिसमें ग्राम डोबरा जिला गुना के प्रभावी मुसलमानों फारुख बल्द फजल खाँ व अन्य लोगों द्वारा हमारे भील जनजाति समुदाय के लोगों के साथ भयानक मारपीट की और उनकी जमीनों पर कब्जा करने की कोशिश की। यह सब घटना क्रम सोचा समझा “लेण्ड जिहाद” जैसा मामला है।
डोबरा गाँव इस जमीन पर हमारे भील जनजाति भाई वर्षों से खेती कर अपने परिवार का जीवनयापन करते आ रहे हैं जिन्हें इन प्रभावशाली मुसलमानों द्वारा आतंकित कर, झगड़ाकर ,जबरजस्ती जमीन पर कब्जा करने का प्रयास कर रहे हैं।
इतना ही नहीं तो इन लोगों द्वारा हमारी भील जनजाति परिवारों की महिलाओं के साथ भी गैरकानूनी कार्य किये जाते हैं।
इन लोगों द्वारा हमारी भील जनजाति समुदाय की नाबालिग, किशोरी लड़कियों को भगाकर ले जाने की घटनायें भी की गई हैं।
लेकिन समाज के जागरुक लोगों के प्रयासों से उन्हें वापस लाया गया है।

प्रदेश के अन्य जिलों में भी इस प्रकार की (लेण्ड जिहाद, लव जिहाद) की घटनाऐं अब जनजाति क्षेत्रों में बढ़ गई हैं, जिससे हम जनजातीय समुदाय के लोगों का सम्मान से जीना मुश्किल हो गया है। यह एक गम्भीर समस्या है।
हम प्रदेश में हो रही इस प्रकार की घटनाओं की घोर निंदा करते हैं और आपका ध्यान इन घटनाओं की ओर आकृष्ट करना चाहते हैं।
हमारी माँग है कि डोबरा गाँव की घटना की निश्पक्ष जाँच कराकर दोषियों पर कड़ी कार्यवाही की जाये। जिससे मध्य प्रदेश के जनजाति क्षेत्रों में ऐसी घटनाऐं घटित ना सकें और हमारे जनजाति समुदाय के लोग सुरक्षा के साथ शाँतिपूर्ण ढंग से रह सकें।  उन्होंने इन सभी घटनाओ  की शीघ्र जाँच करवाने की मांग की गई है l ज्ञापन देने वालों में श्री मती सरोज परते,वंदना यूवने,अभिषेक चुके,ललित बारक्सकर, आकाश भलावी उपस्थित थे।