म प्र गौ सेवक संघ ने दिया कलेक्टर को ज्ञापन

Scn news india

प्रवीण गौर ब्यूरों
पशुपालन विभाग से प्रशिक्षित गौ सेवक संघ आज अपनी समस्या को लेकर कलेक्टर कार्यालय में ज्ञापन दिया।
संगठन ने ज्ञापन के माध्यम से बताया की वर्तमान में पशुपालन विभाग के द्वारा चलाए जा रहे टीकाकरण और टेकिंग के काम में गौ सेवको को लगाया गया है। और गौ सेवको से पशुपालन विभाग दवाव देकर काम करना चाहता है।
संगठन ने बताया की शासन और पशुपालन विभाग से प्रशिक्षित गौ सेवको को कोई भी मानदेय नहीं मिलता आज जिले में सभी ब्लाक में कोरोना महामारी चल रही इस स्थिति में गांव गांव जाकर टीकाकरण और टेकीग का बहुत जोखिम भरा है और गौ सेवको को कोई बीमा नहीं जिससे की वह जोखिम की पूर्ति कर सकें।
संगठन ने दो दिन पहले रीवा जिले में इसी काम में लगे गौ सेवक की चोट के कारण मृत्यु हो गई पर विभाग और शासन ने किसी भी प्रकार की सहायता प्रदान नहीं की।
इसलिए प्रशिक्षित गौ सेवको ने शासन से मांग की गौ सेवको का बीमा किया जाय।
टीकाकरण और टेकिंग के लिए सम्मानजनक राशि दी जाय।
गौ सेवक पिछले 18 वर्ष से निःशुल्क सेवा कर रहे हैं।
जब विभाग के पास काम रहता है तो गौ सेवको को विभाम में शामिल करके विभाग का हिस्सा बताया जाता है और जब मानदेय की बात करते हैं तो विभाग कहता है गौ सेवक तो स्वरोजगार योजना में है इसलिए गौ सेवको ने ज्ञापन के माध्यम से अपना विरोध दर्ज कराया और शासन से जल्दी अपनी मांग पूरी करने का निवेदन किया।