आदिल ने जाल में फंसे साँप की जान बचा कर जंगल में छोड़ा

Scn news india

 


आशीष उघड़े 

मध्यप्रदेश जिला बैतूल  के सारनी क्षेत्र में वन्यप्राणियों , पशु पक्षी , जीव-जन्तु एवं पर्यावरण के संरक्षण व् जागरूकता हेतु कार्य करा रहे पीपल फॉर एनिमल्स यूनिट सारनी के अध्यक्ष आदिल खान किसी परिचय के मोहताज नहीं है। देश ही नहीं विदेशों में भी उनकी ख्याति है। जो जंगल में विचरण करने वाले  समस्त जीव जंतुओं की जानकारी रखते है। एवं उनके संरक्षण के प्रति समर्पित है।  कितना भी खतरनाक या जहरीला जीव हो उसे काबू करना उनके बाएं हाथ का खेल है।

रविवार शाम को सतपुड़ा जलाशय के छठ घाट पर छोटु अंसारी, इजाज़ खान व कुछ युवक मछलियों और अन्य जीवों को खाना खिलाने गए थे। तभी उनकी नज़र पानी में पूराने मछलियाँ पकड़ने वाले जाल में फँसे साँप पर पड़ी, जिस पर सूझ बूझ से युवकों ने साँप को जाल समेत जलाशय से बाहर निकाला और पीपल फॉर एनिमल्स यूनिट सारनी के अध्यक्ष आदिल खान को सूचना दी।

आदिल तत्काल ज़रूरी समान लेकर वहां पहुंचे और साँप को जाल से निकलना शुरू किया, आदिल ने बताया की लगभग सात फीट लंबा धामन साँप मछली को पकड़ने वाले जाल में बुरी तरह से फंसा हुआ था। साँप को जाल से सुरक्षित निकालना बहुत कठिन था । आदिल ने बताया की उन्होंने पहले साँप के शरीर में फंसे जाल को बाकि जाल से अलग किया फिर धीमें धीमें कैंची के माध्यम से बारीक़ी से साँप के शरीर पर जकड़े जाल को अलग किया, लगभग आधे घंटे में साँप को सुरक्षित रूप से जाल से निकलने में सफ़लता मिली । जिसके बाद साँप को जलाशय के नज़दीक ही जंगल में छोड़ दिया ।

आदिल का कहना है कि मछली पकड़ने के जाल को यहाँ वहाँ फेंकना नहीं चाहिए, जाल ख़राब हो जाए तो उसे फेंकने की जगह नष्ट करना चाहिए।
आदिल ने बताया उनके माध्यम से लंबे समय से बैतूल जिले में वन्यप्राणियों के संरक्षण का कार्य किया जा रहा हैं और लोगों को व बच्चों को वन्यप्राणियों के प्रति जागरूक किया जा रहा हैं। इस कार्य में मीडिया का भी पुर्ण सहयोग मिल रहा हैं जिस वजह से अब लोग वन्यप्राणियों को बचाने आगे आ रहें हैं। आदिल खान ने कहाँ की इसके लिए वे समस्त मीडिया कर्मियों का भी धन्यवाद करते हैं।