कभी अतिमहत्वाकांक्षा के कारण कांग्रेस के विरोध मे खुलेआम प्रचार किए

Scn news india

आशीष वर्मा अनूपपुर
विश्वनाथ सिंह 2018 के विधानसभा चुनाव मे कांग्रेस पार्टी से टिकट माँगा था, लेकिन शीर्ष नेतृतव ने पार्टी के हित मे बिसाहुलाल को उमिद्वार घोषित किया और बिसाहुलाल शीर्ष नेतृतव के उमिद्दो पर खरे उतरते हुए चुनाव जीत गया , पार्टी के कार्यकर्ताओ ने दिन रात मेहनत करते हुए , अपनी पार्टी को जीत दिलाई, इसी घड़ी पार्टी से टिकट माँगने वाले विश्वनाथ सिंह ने खुलके कांग्रेस के विरोध मे काम किया एवं बीजेपी प्रत्यासी के चहेते बने, जिसका परिणाम ये हुआ की इनके गृहग्राम मे कांग्रेस के 190 वोटो के मुक़ाबले बीजेपी को 223 वोट मिले , इनके एक बहुत पक्के समर्थक ने धिरौल गाँव मे कांग्रेस के 385 के मुक़ाबले बीजेपी को 475 वोट दिलवाया , एक और विश्वनाथ के कथित समर्थक जो तहसील के पीछे डेरा रखते हैं उन्होने भी कांग्रेस का खुलके विरोध किया लेकिन कांग्रेस पार्टी का ज़्यादा अहित नही कर पाए, अब जब सुना है की उपचुनाव मे सीट खाली हुई है तो नकारात्मक सोच के साथ दावेदारी करनी शुरू कर दिया है , अब क्या इस उमिद्वार से कांग्रेस को उम्मीद लगाना सही होगा जो ना तो अपने गाँव की पोलिंग जीता ना ही इनके कथित समर्थक अपने गाँव की पोलिंग जीता, फिर भी अपने नकारात्मक सोच के साथ कांग्रेस की लुटिया डुबोने पर आमदा है , कथित प्रत्यासी और उनके छुटभैया समर्थक जनता के बीच ना होके कुछ पत्रकारो के यहाँ चढ़ावा चढ़ाने मे व्यस्त है , जो कांग्रेस का बहुत नुकसान करेगी, अब शीर्ष एवं जिले के कांग्रेस संगठन और माननीय विधायको का हस्तक्षेप होना ज़रूरी हो गया है!
आरोप तो और भी है , जनता है सब जानती है !!
आरोप तो जिला पंचायत मे कई लाख के गवन का है जिसकी फ़ाइल जिला पंचायत मे पड़ी है और समय का इंतेजार कर रही है, बिसाहू लाल ने इसका खाका भी तैयार कर लिया है बस सही समय का इंतेजार है , जैसे ही अगर इसको कांग्रेस प्रत्यासी बनाती है, वैसे ही इनकी ढोल बजनी है, और अभी कुछ दिन पहले इनके एक कथित समर्थक जो अपने स्वार्थ साधने के लिए विधायक बनाना चाहते है, कुछ दिन पहले अवैध उत्खनन के मामले मे फ़रारी काट रहे थे, खैर कुछ भी हो जो जैसा करता है वैसा भरता है , बाकी जनता समझदार है सब जानती है !