डोलरिया में पशुओं में गलघोंटू व एक टगिया बीमारी से बचाव के लिये टिकाकरण अभियान चलाया

Scn news india

प्रवीण गौर ब्यूरो होशंगाबाद 

सेल/डोलरिया में वर्षा ऋतु के पूर्व गौवंशीय व भैंसवंशीय पशुओं में गलघोटू व एक टंगिया बीमारी से बचाव के लिए जिले में सघन टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। इस आशय की जानकारी देते हुए पशुधन विकास विभाग के चिकित्सक  श्री अरुण गौर ने बताया कि गलघोटू व एक टंगिया जीवाणु जनित बीमारी है, जो पाश्चुरेला व क्लास्ट्रीडियम नामक जीवाणु से होती है।

उन्होंने बताया कि गलघोंटू बीमारी में पशुओं को तेज बुखार, आंखों में सूजन तथा गले में संक्रमण व सूजन के कारण घर्र-घर्र की आवाज आती है, सांस लेने में तकलीफ होती है, लार बहने लगता है। इसी प्रकार एक टंगिया बीमारी में बुखार व जॉघ के मांसपेशी में दर्द युक्त सूजन होता है, जिसमे चर्र-चर्र की आवाज आती है। इससे जानवर को चलने में परेशानी होती है। एक टंगिया रोग में चार माह से दो वर्ष तक के युवा पशु सबसे अधिक संवेदनशील होते है तथा गलघोटू का टीकाकरण चार माह से ऊपर के सभी उम्र के पशुओं में लगाया जाता है। उन्होंने पशुपालक कृषकों से अनुरोध किया है कि पशुधन विकास विभाग द्वारा निर्धारित टीकाकरण की तिथि को अपने पशुओं को घर में ही रखें तथा अपने पशुओं का अनिवार्यत? टीकाकरण करायें। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए अपने निकटस्थ पशु चिकित्सा संस्था सें संपर्क किया जा सकता है।

पशुधन विकास विभाग श्री अरुण गौर ( डोलरिया)