महज 02 घंटे मे किया 10 साल की अबोध बालिका के अपहरणकर्ता को गिरफ्तार

Scn news india

मनोहर

भोपाल -भोपाल गुनगा पुलिस ने शिकायत के बाद महज 2 घंटे में 10 वर्षीय बालिका को सुरक्षित बरामद कर आरोपी अपहरणकर्ता युवक को गिरफ्तार करने  में  बड़ी सफलता पाई है ।

थाना गुनगा पर सूचक पिता गुलाब सिंह (परिवर्तिन नाम) ने थाना उपस्थित आकर सूचना दी थी कि मेरी पुत्री उम्र 10 साल खाना खाकर घर पर रात में सोई थी। सुबह करीब 05.00 बजे पिता गुलाब सिंह (परिवर्तिन नाम) ने देखा तो लडकी अपने बिस्तर पर नही थी की रिर्पोट पर गुम इंसान क्र. 24/2020 एवं अपराध क्र 222/20 धारा 363 भादवि का कायम किया गया।

जिसकी सूचना वरिष्ठ अधिकारीयो को दी गई। मामले की गंभीरता व संवेदनषीलता को देखते हुये पुलिस अधीक्षक महोदय उत्तर, भोपाल द्वारा तुरंत मौखिक रूप से संदेही आरोपी को पकडने व बच्ची को सुरक्षित दस्तयाबी हेतु 5000 रूपये का ईनाम उदघोषित किया गया है एवं थाने से एक टीम गठित कर गिरफतारी व दस्तयाबी हेतू आदेषित किया गया। जिसमे थाना प्रभारी सुश्री सोनम झरवडे  के नेतृत्व  में बच्ची जिसकी उम्र 10 साल की दस्तयाबी हेतु एक टीम रवाना की गई।

जिसमे उनि सुनील भदौरिया, आर. राजेन्द्र, धर्मेन्द्र, रंजीत को शामिल किया गया। मामले को गंभीरता से लिया जाकर थाने से उक्त टीम सादा वस़्त्रो में हुलिया बदलकर रवाना हुई। जो नई सब्जी मंडी करोंद, राजेन्द्र नगर, बजरिया तलाष करते हुये कोच फैक्टरी द्वारका नगर रेलवे कालोनी पहूची। पुलिस टीम ने कोच फैक्टरी के जंगलो व कालोनी में करीब 02.00 घंटे तक लगातार तलाष किया एवं वहा के स्थानीय लोगो को घटना से अवगत कराया जाकर स्वयं का मोबाईल नंबर देकर स्थानीय लोगो को भी तलाष हेतु बताया गया। रेलवे कालोनी कोच फैक्टरी के जंगल मे पुलिस टीम प्रभारी उनि. सुनील भदौरिया ने हमराह स्टाफ के साथ लगभग 2.50 किमी. अंदर जंगल मे लगातार पैदल तलाष किया तो बताये हुलीये की लडकी को एक लडका जगंल में अंदर ले जा रहा था जो पुलिस को देखकर बच्ची को लेकर भागने लगा। जिसे हमराह स्टाफ व आसपास के लोगो की मदद से घेरा बंदी कर बच्ची को सही सलामत पुलिस अभिरक्षा मे लिया जाकर लडके से नाम पता पूछा जिसने अपना नाम दीपक श्रीवास पुत्र सुरेष श्रीवास उम्र 20 साल नि. द्वारका नगर बजरिया भोपाल बताया। आरोपी को गिरफतार कर थाने लेकर आये।

सराहनीय भूमिकाः-परि.उप.पु.अधीक्षक सोनम झरवडे थाना प्रभारी, उनि. सुनील सिंह भदौरिया, आर. 299 राजेन्द्र सोलंकी, आर.1034 धर्मेन्द्र रघुवंषी, आर.356 रंजीत रघुवंषी, आर. 514 विष्णु तोमर, मआर 4107 किरण की धरपकड में महत्वपूर्ण भूमिका रही।