गर में नहीं गूंजी नाग को दूध पिलाओ की आवाज देव स्थानों पर छाया रहा सन्नाटा एक दो भक्त नजर आए

Scn news india

बाबा सोलंकी 

भैंसदेही।कोरोना कोविड 19 के वायरस प्रकोप के चलते शनिवार को नगर व आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में नाग पंचमी त्यौहार पर मंदिरों सहित सार्वजनिक स्थानों पर पूजा पाठ एवं भंडारों पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा होने के कारण कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते हुए प्रकोप के खतरे को देखते हुए नाग पंचमी पर विशेष आयोजन नहीं किए हर साल की तरह नाग पंचमी को नगर के विभिन्न मंदिरों में भारी संख्या में श्रद्धालु पूजन के लिए आते थे वहीं जगह-जगह विशाल भंडारे का भी आयोजन किया जाता था।

लेकिन अब इन पर पूरी तरह से शासन के आदेश अनुसार प्रतिबंध होने के कारण मंदिरों पर पुजारी एवं अन्य एक-दो व्यक्ति द्वारा पूजन कार्य संपादित किया गया है नगर में नहीं गूंजी पिलाओ नाग को दूध की आवाज जैसा कि हर वर्ष नगर में सपेरों द्वारा नाग को लेकर मोहल्ले मोहल्ले आवाज लगाकर पिलाओ नाग को दूध वह पूजा-अर्चना कराई जाती थी इस बार यह आवाज सुनने को नहीं मिली ना ही कोई सपेरा नजर आया महिलाओं द्वारा घर पर ही नाग की आकृतियां बनाकर पूजा अर्चना की वह अपने परिवार के लिए मंगल कामनाएं की ।