मामूली सा विवाद बदला हत्या में,पुलिस ने उठाया अंधेकत्ल से पर्दा, सभी आरोपी हिरासत में

Scn news india

बाबा सोलंकी 

बैतूल मे 12 जुलाई को कोरोना महामारी मे सम्पूर्ण लाकडाऊन होने कारण शहर बंद था इसी लाकडाऊन मे चन्द्रशेखर वार्ड इटारसी रोड एवं सोनाघाटी क्षेत्र मे बैतूल के ही HBसंतोष उर्फ पिल्लू पवार (मृतक) और रिंकू कडवे,तुलसी धुर्वे,धमेन्द्र ठाकुर और राजकुमार महाराज ने शराब पी थी दिन मे इटारसी रोड स्थित शराब दुकान के रोड़ के दूसरे तरफ जब रिंकू कड़वे और पिल्लू पवार शऱाब पी रहे थे तो रोड से पैदल निकल रहे चन्द्रशेखर वार्ड सदर के सुनील हजारे को रोककर पिल्लू पवार ने दो – तीन चाटे मारे और बोला की बच्चा मत समझ लेना यही मसल दूगां इस अचानक मारपीट की घटना से आहत सुनील हजारे ने अपने साथियो 1.सुनिल हजारे पिता आनंदराव हजारे निवासी चन्द्रशेखर वार्ड बैतुल 2.रिंकू उर्फ सौरभ कडवे निवासी चन्द्रशेखर वार्ड3. धमेन्द्र पिता भैय्यालाल ठाकुर निवासी सोनाघाटी 4.बालू उर्फ सुशील उईके पिता चन्द्रभान उईके निवासी चन्द्रशेखऱ वार्ड 5.तुलसीराम पिता बाबूलाल भलावी निवासी सोनाघाटीके साथ मिलकर चन्द्रशेखऱ वार्ड के ही पिल्लू उर्फ संतोष पवार को आज ही मार-डालने की योजना बनायी।

सभी ने मिलकर इटारसी रोड पर और सोनाघाटी पर शराब भी पी रात लगभग 11.00 बजे जब पिल्लू उर्फ संतोष पवार,राजकुमार उर्फ महाराज पिता रमेश चतुर्वेदी निवासी गणेश मंदिर के पास पटेल वार्ड सदर बैतूल के साथ उसकी सफेद स्कूटी से बैठकर प्रेमलाल पानठेला के सामने पहुचा और वहा खडा था की रोड की दूसरे तरफ से आये सुनील पिता आनंदराव हजारे और इसके पडोसी डालू उर्फ सुशील उईके पिता चन्द्रभान उईके ने पिल्लू को घेर लिया और चाकू निकाल कर कई वार पिल्लू के छाती एंव पेट पर किये जिससे पिल्लू पवार जमीन पर गिर पडा पिल्लू ने एक वृक्ष की लकडी से बचने के लिये इन दोनो पर हमला कर निकलने की कोशिश की पर ताब़डतोड पहुचाये गये चाकू के घाव से पिल्लू जमीन पर गिर पडा और खत्म हो गया मृतक की पहचान होते ही परिजन भी मौके पर पहुचे मां हीरा बाई की रिपोर्ट पर देहाती नालसी पर अपराध धारा 302,34 भादवि का मामला दर्ज कर तत्काल वरिष्ठ अधिकारी एंव शहर के तीनो थाना प्रभारी व एफएसएल पार्टी मौके पर पहुची।

सारी अनुसंधान संबधी कार्यवाहिया की गयी उक्त घटना राजकुमार महाराज ने देख ली थी जो मामले का महत्वपूर्ण गवाह है इस पर दोनो हत्यारो ने राजकुमार महाराज को चाकू अडाकर उसी की स्कूटी का मौके से भागने मे इस्तमाल किया और खुद राजकुमार को उसकी गाडी सहित सोनाघाटी रेल्वे फाटक तक चाकू की नोक पर ले गये और सोनाघाटी पहुचकर फिर सुनील हजारे ,बालू उर्फ सुशील उईके,तुलसीराम भलावी ,और धमेन्द्र ठाकुर और रिंकू कडवे फिर इक्ठा हो गये फिर शराब पी और जैसे ही पुलिस को इन लोगो की घटना मे संलिप्त होने की जानकारी लगी तो ये घरो से गायब हो गये मामले मे घटना के चश्मदीद साक्षी राजकुमार चतुर्वेदी से पूछताछ के बाद आरोपियो को लगातार तलाश कर हिरासत मे लिया गया आरोपियों ने हत्या के साक्ष्य मिटाने के लिये खुन से सने कपडे जला दिये मामले मे अपराध क्रमाक 594/20 धारा 302,34 भादवि मे पुलिस व्दारा अनुसंधान कर 24 घण्टो मे घटना का खुलासा किया है सम्पुर्ण प्रकरण को पुलिस अधीक्षक बैतुल व अति.पुलिस अधीक्षक बैतुल तथा एसडीओपी बैतुल के साथ शहर के तीनो थाना प्रभारी औऱ गंज और कोतवाली कि पुलिस टीमो ने उपरोक्त सभी आऱोपीयो को पुलिस हिरासत मे ले लिया है प्रकरण मे मृतक के परिजनो को जिन लोगो पर उसकी हत्या करने की आशंका थी उनके नाम मृतक कि मां ने प्रथम सुचना रिपोर्ट मे बताएं है इस सबंध मे जांच कर किसी भी अपराधी की संलिप्ता इसमे पायी जायेगी उसके विरुध कडी कार्यवाही पुलिस व्दारा कि जावेगी ।
.