प्रशासन की आंखों में धूल झोंक रोजाना क्षेत्र में आती है सेकड़ो ट्राली रेता।

Scn news india

दिलीप पाल ब्यूरों आमला
आमला- कलेक्टर के आदेश को दरकिनारे कर अपनी ओर मजदूरों की जान जोखिम में डाल रहे रेत माफिया।
मानसून आते ही जहाँ कलेक्टर ने रेत खनन के लिए रोक लगाई तो वही आमला की छोटी नदियों में से रेत का अवैध खनन तेज हो गया है।
रेत माफिया बारिश के दौरान ऊंचे दामों पर रेत बेचकर भारी मुनाफा कमाते हैं। इसके चलते मानसून के दस्तक के साथ ही रेत निकाल कर जगह-जगह स्टॉक करने में लगे हैं। वहीं बारिश में निर्माण कार्य भी न रुके, इसके लिए रेत का स्टाॅक करना शुरू कर दिया है। इसके चलते रेत की मांग अधिक बढ़ गई है। ऐसे में रोजाना सैकड़ों ट्रैक्टर रेत का अवैध खनन किया जा रहा है। तो वही क्षेत्रीय प्रसासन की मोन स्वीकृति आमजनों के लिए जोखिम साबित होते नजर आरही है।

आमला ब्लाक के ग्राम सोनतलई के पास से बहने वाली बेल नदी घाट,बारची घाट,अवैध रेत उत्खनन का मुख्य अड्डा है ही साथ ही बोरी से सारणी की और जाने वाली रास्ते से रोजाना रात में एकसाथ करीब 40 ट्राली रेता लाई जारही है।
इस प्रकार आमला ब्लाक में रोजाना करीब सैकड़ो ट्राली अवैध रेता का गोरखधंधा प्रसासन की मोन स्वीकृती से पनप रहा है।
वर्तमान समय मे रेता की खदाने सतना के ठेकेदार की है परंतु मानसून को देखते हुए अभी सभी खदानों पर रोक लगादी गयी है। पर जो लीगल ठेकेदार है उसका काम बन्द कर अवैध लोगो को षड्यंत्र पूर्वक लाभ पहुँचाया जारहा है। इसे रोकने के लिए नाही खनिज विभाग के अधिकारी और नाही स्थानीय प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई की जा रही है।
पिछले कई दिनों से क्षेत्रीय तहसीलदार व थानेदार द्वारा इस अवैध उत्खनन को रोकने के लिए किसी प्रकार का अभियान या कोई सार्वजनिक उचित कार्यवाही नही की गई है जिससे अवैध कारोबारियों के हौसले बुलंद हो चुके है।

अफसर बोले – अवैध खनन पर कार्रवाई की जाएगी
मानसून आते ही अवैध रेत उत्खनन में काफी तेजी आ गई है। रेत माफिया अधिक मुनाफा कमाने के लिए अभी से रेत का स्टॉक करने में जुट गए हैं। बारिश के दौरान नदी से रेत निकालने में जान का जोखिम तो रहता है जिसके चलते मानसून को देखते हुए रेता खदानो पर रोक लगा दी जाती है। इस दौरान रेत को मनमाफिक दामों में बेचकर माफिया भारी मुनाफा कमाते हैं।
इस विषय में खनिज अधिकारी शशांक शुक्ला का कहना है की मुझे जानकारी मिली थी हम अभी तक कुछ कार्यो में व्यस्त थे परंतु कल से अवैध रेत खनन माफियाओं का जेल जाना तय है। जल्द ही आप इसके परिणाम देखोगे।