कांग्रेस कार्यकर्ताओं के सर्वो में रमेश सिंह आगे, पार्टी नही कर पा रही उम्मीदवार का चयन

Scn news india

चंद्रमणि विश्वकर्मा जिला ब्यूरों 
अनूपपुर। उप चुनाव की घोषणा पूर्व ही अनूपपुर विधानसभा में जबरदस्त चुनावी माहौल बन चुका है। कांगे्रस छोड़ भाजपा में आये कैबिनेट मंत्री बिसाहूलाल सिंह भाजपा के उम्मीदवार होंगे। जबकि कांग्रेस में तमाम नामों के आगे केवल एक की चर्चा पार्टी के अन्दर और बाहर दोनो ही जगह हो रही है। राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रमेश कुमार सिंह जिनके नाम को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं के द्वारा किये गये सर्वो में रमेश कुमार सिंह के उभर कर आया है,जिससे कार्यकर्ताओं ने पार्टी से उम्मीदवार बनाये जाने की मांग की है। जबकि रमेश कुमार सिंह अभी मैदान में नही उतरे है,शासकीय सेवा होने के बाद भी कार्यकर्ताओं की पहली पसंद बन है।
उप चुनाव घोषित नहीं होने से कांग्रेस ने अभी अपने पत्ते नहीं खोले हैं। लेकिन भाजपा ने अनाधिकृत रूप से अपने पत्ते खोल चुकी है बिसाहूलाल सिंह की उम्मीदवारी लगभग तय हो चुकी है। लेकिन कांग्रेस की उम्मीदवारी को लेकर असमंजस की स्थिति आज भी बनी हुई है। कांग्रेस के नामों के आगे रमेश कुमार सिंह ही बिसाहूलाल सिंह को चुनौती देते दिख रहे हैं। कांग्रेस के काफी कार्यकर्ता गांव गांव जाकर रमेश कुमार के नाम चर्चा कर लोगो तक इस नाम को पहुंचा रहे है। राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं और यह जनहित के लिए मैदान में नौकरी छोड़ कर आ रहे हैं इस पर जनता इनके नाम को लेकर सभ्भावनाएं तलाश रही है। विधानसभा अनूपपुर के निवासी रमेश सिंह होने से अच्छा खासा समर्थन शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में मिलता दिख रहा है। अनूपपुर में 1,64,248 मतदाता हैं, जिसमें 84,848 मतदाता पुरुष और 79,397 मतदाता महिला है।
अनूपपुर विधानसभा क्षेत्र में लंबे समय से बिसाहूलाल सिंह एवं रामलाल रौतेल का कब्जा बना रहा, लेकिन रमेश सिंह के नाम उपचुनाव के लिए जनता के पटल पर आया तो जानता ने एक बारगी में उनकी उम्मीदवारी पर मन बना रही है। नाम तो कांग्रेस में कई चले लेकिन उन सभी नामों को जनता ने नकार है। मतदाता अब सोहागपुर विधानसभा में जिस तरह से कांग्रेस और भाजपा को किनारे कर शबनम मौसी एकदम नये उम्मीदवार को विजय श्री दिलाया था ठीक उसी तरह रमेश सिंह पर मना रही है।
वही अभी तक इस बात को लेकर रमेश सिंह ने भी अपने पत्ते नही खोले है। इसके पूर्व इनका नाम लोकसभा चुनाव में भाजपा की ओर से भी चला लेकिन हिमाद्री सिंह के कांग्रेस से भाजपा में शामिल होने से चर्चा नही हुई। बिसाहूलाल सिंह के अचानक भाजपा में आने से अनूपपुर विधानसभा काग्रेस में योग्या उम्मीदवार की तलाश शुरू हुई तो सबसे पहले लोगो को रमेश कुमार सिंह का नाम आने से उत्साहित कार्यकर्ताओ ने इसका प्रचार भी शुरू कर दिया। नेता विहिन नजर आने वाली कांग्रेस में रमेश कुमार का नाम आने से मुकाबले में खड़ी हो गई। लोगों को चुनाव की घोषणा का इंतजार है और कांग्रेस को रमेश सिंह के नाम की हरी झंडी का।
कार्यकर्ताओं ने रमेश सिंह के नाम पर कांग्रेस का प्रचार गांवो से लेकर शहर तक तेजी से कर रहे हैं। इससे कांग्रेस को चुनाव में सहयोग मिलेगा आवश्यकता है कांग्रेस के आलाकमान की घोषणा का। कांग्रेस को चाहिये समय रहते उम्मीदवार की घोषणा करे ताकि उम्मीदवार को प्रचार के लिए समय मिल सके।
जिस तरह से भाजपा दो गुट में बटी है इसका फयदा कांग्रेस समय रहते उठा सकती है। भाजपा में जमुना और अनूपपुर की लड़ाई चल रही है इससे उप चुनाव में भाजपा उम्मीदवार को परेशानी हो सकती है। भाजपा के अति उत्साहित कार्यकर्ताओं ने यह मान लिया है कि भाजपा उम्मीदवार बिसाहूलाल की जीत तय है और मंत्री बने बिसाहूलाल के आगे पीछे हो रहे है। ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस की संस्कृति भाजपा में शामिल हो गई।
अनूपपुर विधानसभा में दो नाम प्रचलित है बिसाहूलाल सिंह और रामलाल रौतेल किन्तु आज रमेश सिंह की पहचान भी लोगो तक पहुंच रही है। इससे कांग्रेस का आसानी होगी। अन्य दावेदार ग्राम पंचायत और जनपद पंचायत तक सीमित है ऐसे में कार्यकर्ताओ की पंसद को नकरा नही जा सकता।