लाश को जमीन पर ही छोड़कर एम्ब्युलेन्स का चालक फरार – मजिस्ट्रियल जाँच के आदेश

Scn news india

मनोहर

भोपाल-मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में एक निंदनीय व् अजीबोगरीब घटना सामने आई है जिसका वीडियों वायरल होने के बाद से हड़कंप मच गया है। वीडियों में  कोरोना वायरस के कारण मृतक की लाश को जमीन पर ही छोड़कर एम्ब्युलेन्स का चालक फरार हो गया।

जानकारिनुसार  59 वर्षीय वाजिद अली की कीडनी की समस्या के कारण भोपाल की पीपल्स होस्पिटल में दाखिल किया गया था, लेकिन बीते कई दिनों से उन्हें श्वास की तकलीफ भी शुरू हो गई थी। डॉक्टर्स ने उन्हें न्यूमोनिया की शिकायत भी व्यक्त की। सोमवार की शाम को इनकी कोरोना संक्रमण की पुष्टि की गई। इसके बाद उन्हें कोरोना के अस्पताल चिरायु में शिफ्ट किया गया।आरोप यह है कि वृद्घ कोरोना पीडि़त को जहां ले गया वहां उसके लिए एम्ब्युलेंस भी भेजी गई, लेकिन चालक ने शव को रास्ते में ही छोड़कर चला गया। मृतक के पुत्र आबिद अली ने कहा कि उनके पिता का सैंपल रविवार को लिया गया। जो सोमवार को पॉजिटिव आया। उनकी तबियत जनवरी से ही खराब थी।पीपल्स होस्पिटल में उन्हे 23 जून को दाखिल किया गया था। जब उन्हें इस होस्पिटल से शिफ्ट किया गया तो वह जीवित थे। मुझे पता नही कि क्या हुआ लेकिन एम्ब्युलेन्स भेजी गई थी, तो रास्ते में मृतहेह को क्यों छोड़ दिया। यह होस्पिटल की गलती है। इस घटना के बारे में एक वीडियो भी सामने आ रहा है जिसमें कि पीपीई किट पहने हुए लोग लाश को स्ट्रेचर से उतारकर नीचे रखते नजर आ रहे हैं। इसके बाद दोनों होस्पिटल पर आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला चालू हो गया है।

मजिस्ट्रियल जाँच के आदेश

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी भोपाल श्री अविनाश लवानिया ने रोगी को सड़क पर छोड़कर जाने की घटना की मजिस्ट्रियल जाँच के आदेश दिये हैं। जाँच अपर जिला मजिस्ट्रेट श्री सतीश कुमार द्वारा की जाएगी।

मजिस्ट्रियल जाँच में शामिल बिन्दु इस प्रकार हैं – यदि रोगी 23 जून, 2020 से पीपुल्स जनरल हॉस्पिटल, मालवीय नगर, भोपाल में भर्ती था, तो ऐसी कौन-सी परिस्थिति उत्पन्न हुई कि उसे अन्य अस्पताल में रैफर करने का निर्णय लिया गया। क्या अन्य अस्पताल में रैफर करने के पूर्व रोगी के परिवार को मौजूद स्थिति की पूरी जानकारी दी गई थी एवं मरीज की शिफ्टिंग के लिये सहमति प्राप्त की गई थी। क्या मरीज को शिफ्ट करते समय ऐसे रैफर एवं ट्रांसफर करने के लिये समय-समय पर जारी नियमों एवं प्रोटोकॉल का पालन किया गया था। किन कारणों से मरीज को एम्बुलेंस से वापस लाने की स्थिति निर्मित हुई थी। किन परिस्थितियों में रोगी मृत्यु हुई। क्या इसके लिए कोई जिम्मेदार है। इसके अतिरिक्त जाँच के दौरान अन्य बिन्दु जो दृष्टिगत होंगे, उनको भी जाँच में लिया जाएगा।