डाकघर की बिल्डिंग में ही एक सप्ताह पहले महिला निकली थी कोरोना पॉजिटिव

Scn news india

  • एक सप्ताह से डाकघर बंद, सैकड़ों उपभोक्ता रोज हो रहे परेशान

स्वप्निल जैन ब्यूरों 

खनियांधाना। नगर तथा आसपास के उपभोक्ताओं को सेवाएं देने वाला उप डाकघर खनियांधाना पिछले एक सप्ताह से बंद पड़ा हुआ है जिसका कारण यह बताया गया है कि जिस बिल्डिंग में डाकघर संचालित हो रहा था उसी बिल्डिंग की ऊपरी मंजिल में पिछले सप्ताह शनिवार को एक महिला कोरोना पॉजिटिव निकली थी। जिसके चलते डाकघर सहित आसपास का पूरा एरिया सील कर दिया गया था तथा प्रशासन ने पूरे एरिया को सेनिटाइज करते हुए अस्पताल चौराहे से गांधी चौक के बीच बैरिकेट्स लगाकर आवागमन रोक दिया था।

जानकारी के मुताबिक इन दिनों बसें नहीं चलने के कारण वैसे भी जरुरी डाक, स्पीड पोस्ट, पार्सल आठ दस दिन में एक बार खनियांधाना आते हैं तथा वितरित होते हैं तथा शनिवार को ही एक साथ काफी सारे बैग डाक के आए थे लेकिन पोस्ट ऑफिस सील होने के कारण वह वितरण नहीं हो सके जिसके चलते कई उपभोक्ता परेशान हो रहे हैं। किसी की दवाइयां आना थी तो किसी के एटीएम कार्ड या चेक बुक आ रही थी। वहीं दूसरी ओर डाकघर के सेविंग खातों आरडी खातों सुकन्या खातों में लोगों को अपनी रकम जमा कराना थी वह भी नहीं हो पा रही है यहां तक की डाकघर के अभिकर्ता के पैरोल भी जमा नहीं हो पा रहे हैं जिसके चलते सभी परेशान हैं। हालांकि अधीक्षक डाकघर गुना द्वारा कल एक नोटिस डाक घर पर चिपकाया गया है जिसमें सूचित किया गया है कि उप डाकपाल खनियांधाना उप डाकघर एवं सहायक अधीक्षक डाकघर शिवपुरी की रिपोर्ट दिनांक 1 जुलाई अनुसार खनियांधाना उप डाकघर भवन के ऊपर रह रही महिला कोविड-19 पॉजिटिव होने एवं स्थानीय प्रशासन द्वारा खनियांधाना उप डाकघर भवन को सील कर पूरे आसपास के इलाके को कंटेनमेंट जोन घोषित किए जाने से कोरोनावायरस से बचाव के तहत एहतियात के तौर पर उप डाकघर खनियांधाना को तत्काल प्रभाव से अस्थाई रूप से आगामी आदेश तक बंद किए जाने के आदेश जारी किए जाते हैं। उक्त डाकघर से आम जनता को दी जाने वाली सेवाएं उक्त अवधि में निकटस्थ उप डाकघर पिछोर उप डाकघर से प्रदान की जाएगी।

मुख्य मार्ग बंद होने से आवागमन में हो रहे लोग परेशान

कोरोना पॉजिटिव केस निकलने के बाद एक सप्ताह से गत शनिवार से ही नगर का मुख्य मार्ग अस्पताल चौराहा से गांधी चौक तक सील कर दिया गया है तथा बैरिकेड लगाकर आवागमन रोक दिया गया है। लेकिन 1 सप्ताह होने के बाद भी अभी तक उनको नहीं खोले जाने से लोग भारी परेशान हो रहे हैं। एक और जहां वाहन निकालने में परेशानी हो रही है जिससे आसपास के रास्तों में रोज जाम लग रहा है वहीं इन इलाकों में जिनकी दुकानें हैं वह दुकानें ही नहीं खोल पा रहे हैं। हालांकि नए नियमों के अनुसार प्रशासन ने कंटेनमेंट एरिया में कुछ ढील दी है जिसके चलते लोगों की मांग है कि जिस मकान में कोरोनावायरस के महिला निकली है उस मकान को छोड़कर वाकी का एरिया शीघ्र खोल दिया जाए जिससे लोगों को परेशानी से निजात मिल सके।