बैतूल

धर्मेंद्र वासनिक का दुबारा आमला स्थानांतरण होने से महिला कर्मचारी आक्रोशित,बीएमओ को सौंपा ज्ञापन

Scn news india

दिलीप पाल ब्यूरों आमला 

आमला. सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र आमला में पूर्व में पदस्थ प्रभारी बीपीएम धर्मेन्द्र वासनिक का पुनः आमला स्थानांतरण होने से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की महिला कर्मचारियों में काफी रोष है जिसके खिलाफ में महिला कर्मचारियों ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी बैतूल के नाम खंड चिकित्सा अधिकारी को ज्ञापन भी सौपा है महिला कर्मचारियों ने ज्ञापन में बताया है कि धर्मेन्द्र वासनिक पूर्व में भी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र आमला में रह चुके है और कर्मचारियों के प्रति इनका व्यवहार विवादित रहा है खासकर की महिला कर्मचारियों के प्रति इनकी दृष्टि व कार्यप्रणाली अमर्यादित एवं अविवेकपूर्ण रही है जिसके विरोध में पूर्व में कार्यकर्ताओ द्वारा तत्कालीन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी बैतूल को अवगत कराया था जिसके बाद इनका स्थानांतरण आमला से सेहरा ब्लाक में किया गया था लेकिन उसके बाद फिर धर्मेन्द्र वासनिक को सेहरा से आमला में स्थानांतरण कर दिया है जिससे महिला कर्मचारियो में काफी रोष है उन्होंने कहा कि यदि दोबारा इनको वापस आमला भेजा जाता है तो फिर से महिला कार्यकर्ता के आत्म सम्मान को ठेस पहुचेगी वही पूर्व में सेहरा ब्लाक में पदस्थ थे वहां के भी समस्त कर्मचारियों द्वारा लाम बन्द होना पाया गया था और उक्त को विवादित कार्यप्रणाली के कारण पूर्व के पदस्थापना स्थल से हटाया गया था महिलाओ ने कहा है कि महिला कर्मचारियों को ध्यान में रखते हुए उक्त व्यक्ति को दोबारा आमला न भेजा जाए यदि इन्हें आमला भेजा जाता है तो समस्त कर्मचारी हड़ताल करने पर विवश हो जाएंगे जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी शासन की होगी ।
पूर्व में बीपीएम का हो चुका विरोध
पूर्व में बीपीएम धर्मेन्द्र वासनिक आमला में भी पदस्त था उस समय भी बीपीएम पर गंभीर आरोप लगाए गए थे महिला कर्मचारियों ने बताया कि महिलाओं के साथ अभद्र व्यवहार किया जाता था महिलाओं को प्रताड़ित किया जाता था पूर्व में भी हमारे द्वारा विरोध किया गया अगर आमला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र इन को पदस्थ किया जाता है तो सभी महिला कर्मचारी काम नहीं कर पाएंगे बीपीएम धर्मेन्द्र वासनिक को अन्य जगह पर पदस्थ किया जाए अगर बीपीएम धर्मेन्द्र को आमला में पदस्त किया जाता है तो सभी महिला कर्मचारी हड़ताल पर चले जायँगे।