मुख्यमंत्री शिवराज की बिजली बिल में राहत किस तरह की। बिजली वितरण विभाग थमा रहा है मनमाना बिल।

Scn news india

प्रवीण मलैया ब्यूरों 

सारनी- कोविड19के संकट को देखते हुए मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार बिजली उपभोक्ताओं को बिजली बिल में राहत की घोषणा करती है राहत के बड़े-बडे विज्ञापन का प्रकाशन कर रही है।वही दुसरी ओर बिजली वितरण विभाग उपभोक्ताओं को पांच हजार तक का मनमाना बिजली बिल थमा रही है समाज सेवी एवं वरिष्ठ पत्रकार  कलीराम पाटिल ने कहा है कि यह कैसी राहत  है कि विगत दो जून को प्रदेश सरकार के आदेश क्र .3349/2020/ तेरह में एम.पी.मेनेजमेंट कंपनी और विधुत वितरण कंपनी जबलपुर भोपाल इंदौर को आदेश दिया कि संबल योजना हितग्राहियों से बिजली बिल सौ की जगह पचास रुपए लिया जायेगा अन्यो से सौ से दो सौ रुपए की राशि का बिजली बिल लिया जायेगा।सनद रहे कि संबल योजना के हितग्राहियों को मनमाना बिजली बिल दिया गया है। कमलनाथ सरकार के कार्यकाल में इंदिरा ज्योति योजना में सभी को सौ युनिट तक सौ रुपए इससे अधिक युनिट आने पर युनिट दर से बिजली बिल आता था। जिससे सभी को राहत मिल रही थी। लेकिन जैसे ही भाजपा कांग्रेस को हटाकर शासन में लौटी कांग्रेस की योजना को बदल दिया और बिजली बिल मनमाना देना शुरू कर दिया। मनमाने बिजली बिल से पिड़ित जब बिजली विभाग के जिम्मेदार अफसरो से मिला तो अफसरों का कहना हुआ कि कम्प्युटर का साफ्टवेयर खराब है बनने गया है बनकर आ जायेगा फिलहाल बिजली बिल भर दो, बिजली बिल में सुधार हो जायेगा। भविष्य में बिजली बिल में सुधार होगा इसकी कोई गारंटी नहीं है। प्रदेश की शिवराज सरकार एक तरफ राहत के नाम पर आम गरीब मजदूरों में सहानुभूति फैला रही है दुसरे तरफ़ उपभोक्ताओं से बिजली बिल से लुटने की योजना चला रही है।