आधीरात रेत खदान में मचे बवाल पर जयस ने जताया विरोध, निर्दोष आदिवासियों को छोड़ने की मांग की

Scn news india

नवील वर्मा ब्यूरों 

बैतूल – विगत दिनों आधीरात में शाहपुर थाना अंतर्गत रेत खदान में मचे बवाल के विरोध में आदिवासी संगठन जयस ने आदिवासियों के पक्ष में आवाज उठाई है।  जयस के नेतृत्व में 100 से भी अधिक महिला पुरुषों ने जिला प्रशासन को ज्ञापन सौपा है। जिसमे कारवाही को दुर्भावना बताया है। जयस का कहना है कि  असली आरोपी तो बच निकले है ,किन्तु पुलिस निर्दोषो पर कारवाही कर रही है। जिस हेतु जयस द्वारा राज्यपाल के नाम  कलेक्टर बैतूल को ज्ञापन सौपा है। और गरीब आदिवासियों को जल्द छोड़ने की  मांग की है।

जयस का कहना है कि 18/5/2020 की रात को शाहपुर ब्लॉक के ग्राम पंचायत भौरा के ग्राम ढोढरामऊ के रैत खदान मे रात के करीब 11:30 शाहपुर तहसील दार एवं पटवारी एवं कुछ पुलिस चेकिंग पर जाते है परंतु रैत खदान मे तहसील दार एवं वहां अंजान लोगों ने पथराव किया जाता है ! और आरोपी भाग जाते है , परंतु उसका खामियाजा वहां के आदिवासी को भुगतनापड़ता है ! रात को करीब 1बजे 100 से लेकर 150 पुलिस फोर्स  जवान गांव के बेकसुर आदिवासी के घरों के दरवाजों को तोड़कर,वहां के लोगों को उठा कर थाना शाहपुर ले जाती है! जिसमे करीब 50 आदिवासी को बन्धक बना कर रखा हुआ हे जिसमे 3 महिला हे ! एक महिला का 6 महीना का बच्चा हे! जयस इसका विरोध करता है।  वहीँ जयस ने  बेकसूर आदिवासीयों  को जल्द से जल्द छोड़ने की मांग की है।