कदम के पेड तले पर्यावरण प्रहरियों का हुआ सम्‍मान, इनकी लगन समर्पण से बंजर भूमि हुई गुलजार- पुष्‍पा सिंह

Scn news india

स्वामी सींग दमोह

दमोह, हटा, जब भी कोई कार्य उसके परिणाम आने की भावना के साथ किया जाता वह कार्य निःसंदेह आमजन को प्रेरणादायक होता है, सिलापरी के दादा ग्‍या यादव व नगर के युवाओं की टीम ने न केवल पौधे रोपित किये बल्कि उन्‍हे पूर्ण संरक्षण देते हुए तपती गर्मी में उनकी जल अपूर्ति की है, इनकी लगन समर्पण से ही आज बंजर भूमि गुलजार हुई है, उनके इन्‍ही कार्यो के लिए आज सम्‍मानित किया जा रहा है, यह बात विश्‍व पर्यावरण दिवस के अवसर पर रंगमहल किला के पास कदम के पेड तले पर्यावरण प्रहरियों का सम्‍मान करते हुए म.प्र.जनअभियान परिषद की ब्‍लाक समन्‍वयक पुष्‍पा सिंह ने कही,


गिने चुने लोगों के बीच आयोजित इस समारोह का आयोजन बीएसडब्‍लू गु्रप द्वारा आयोजित किया गया, सर्वप्रथम राष्‍ट्रगान हुआ, इसके उपरांत क्षेत्र में वृक्ष पुरूष के नाम से अपनी पहचान बनाने वाले ग्‍या प्रसाद यादव का सम्‍मान स्‍मृति चिन्‍ह, मोतीमाला, वस्‍त्रों के द्वारा गुरूप के सदस्‍यों द्वारा किया गया, श्री यादव ने सिलापरी गांव में विगत २५ वर्षो से किसी भी हरे भरे वृक्षों पर कुल्‍हाडी नहीं चलने दी, आज पूरा सिलापरी गांव के चारों ओर वृक्ष ही वृक्ष नजर आते है, २५ हजार पेड तो केवल कीमत लकडी सागौन के ही है, यहां कोई कि भी वन्‍यजीव का शिकार नहीं कर सकता इसके लिए वे दिन रात जंगल की चौकीदारी कर रहे है, इन जंगलों में कई जंगली जीव यदाकदा देखने मिल जाते है,


समारोह में नगर के मुक्तिधाम एवं अन्‍य स्‍थलों पर निरंतर पौधे रोपित करने एवं उनकी देखभाल व गर्मी के दिनों में इन पौधे में पानी देने वाले युवाओं की टीम कंचन चौरसिया, अंचल जैन, दीपक पटवा, राकेश कुशवाहा, हेमंत भारती, राहुल कुशवाहा का सम्‍मान भी किया गया जिन्‍होने केवल पर्यावरण संरक्षण को ध्‍यान में रख कर निस्‍वार्थ भाव से कार्य किया है,
सभी का सम्‍मान सोमित नामदेव संत नामदेव शिक्षा समिति, स्‍वामी अंशुमान तिवारी, रवि कोरी, भारतीय युवा जैन मिलन, बाहुबली जैन, सिंघई आदित्‍य जैन, भारती अरविन्‍द नेमा उमंग सेवा समिति, कृष्‍णकांत लखेरा, पवन पटेल, राजावीर चौहान के द्वारा किया गया, कार्यक्रम का संचालन सौरभ नेमा ने किया, इस अवसर पर मेन्‍टर्स संजय जैन, सुनील सेन, पुष्‍पेन्‍द्र मोनू पाण्‍डेय, गुडडा भाटिया आदि उपस्थित रहे,
कोरोना व लाकडाउन को देखते हुए उसके नियमों का पालन किया गया,