कतिया कोयलारी में महिला की पॉजिटिव रिपोर्ट मामले में ग्रामीणों ने प्रशासन पर लगाए लापरवाही के आरोप

Scn news india

  • सभी पॉजिटिव केस  की ट्रेवल हिस्ट्री मुंबई की। 
  • रेड जोन मुंबई से आने के बाद भी रहे होम क्वारेंटाइन में । 
  • आरोप है कि सहायक सचिव और कोटवार प्रशासन को सही सूचना नहीं दे रहे । 
  • मुंबई से महिला के गंतव्य स्थान तक पहुंचने पर भी स्वास्थ्य केंद्र द्वारा उनका कोई चेकअप नहीं हुआ । 

प्रवीण मलैया ब्यूरों 

घोड़ाडोंगरी। घोड़ाडोंगरी गांव के कतिया कोयलारी गांव में कोरोना का कहर थमने का नाम नही ले रहा है।इस गांव में हाल ही में मुंबई से लौटी एक महिला की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव पाई गई है।कोयलारी गांव में ये चौथा केस है। कोयलारी में कोरोना पॉजिटिव के बढ़ते मामले के कारण ग्रामीणों में जहाँ दहशत का माहौल है वहीं प्रशासन के प्रति आक्रोश भी पनप रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि मुंबई से कोयलारी के लिए निकले एक परिवार के आने की सूचना ग्रामीणों द्वारा पहले ही प्रशासन और रानीपुर थाने को दी जा चुकी थी।रानीपुर पुलिस ने मुंबई से लौटे व्यक्तियों को घोड़ाडोंगरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भेज दिया जहां स्वास्थ्य परीक्षण के बाद होंम कोरण्टाईन का कागज देकर उन्हें वापस गांव भेज दिया गया।अब उसमें से एक महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

गौरतलब है कि कतिया कोयलारी गांव में पहले भी 3 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है। इन सबकी ट्रैवल हिस्ट्री मुम्बई की है। ग्रामीणों के विरोध के बाद भी मुम्बई रिटर्न व्यक्तियों को होंम कोरण्टाईन का निर्देश देकर गांव भेज दिया गया।अब उनमें से एक महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर लोगों में आक्रोश है।ग्रामीणों का आरोप है कि मुंबई रिटर्न लोगों के मामले में प्रशासन लापरवाही बरत रहा है।रिपोर्ट आने तक उन्हें संस्थागत कोरण्टाईन में रखना चाहिए। ग्रामीणों का यह भी आरोप है कि सहायक सचिव और कोटवार प्रशासन को सही सूचना नही दे रहे हैं।
ग्रामवासी का कहना है – आज जो 30 वर्षीय महिला कतिया कोयलारी पॉजिटिव पाई गई है l यह महिला मुंबई के उस इलाके से आई थी जहां से कतिया कोयलारी के तीन संदिग्ध व्यक्ति आए थे और बाद में पॉजिटिव पाए गए थे l मुंबई के कंटेंटमेंट जोन से आने के बाद भी प्रशासन द्वारा इन्हें होम क्वॉरेंटाइन मैं रखा गया l संस्थागत क्वॉरेंटाइन क्यों नहीं किया गया l
हमारे द्वारा घोड़ाडोंगरी तहसीलदार , सहायक सचिव एवं ग्राम कोटवार को पहले से ही इस महिला के आने की सूचना दी गई थी l
मुंबई से आई महिला को मुंबई से आने से पहले से ही सर्दी खांसी के लक्षण दिखाई दे रहे थे l मुंबई से महिला के गंतव्य स्थान तक पहुंचने पर भी स्वास्थ्य केंद्र द्वारा उनका कोई चेकअप नहीं किया गया l उसके बावजूद भी उन्हें होम क्वॉरेंटाइन का आदेश दिया गया l
ग्रामवासी ने घोड़ाडोंगरी तहसीलदार एवं सहायक सचिव व ग्राम कोटवार के ऊपर बड़ी लापरवाही का आरोप लगाया है।