स्थानीय प्रशासन का टीड्डी दल से निपटने हेतु प्रभावी प्रयास जारी

Scn news india

अलकेश साहू ब्यूरों 

भैंसदेही -टीड्डी दल से निपटने हेतु स्थानीय प्रशासन का प्रयास प्रभावी रहा है। खेतों को मिनटों में चट कर देने वाले असंख्य टीड्डीयों के दल की जिले में डेरा डालने की सुचना पर भैंसदेही प्रशासन एसडीएम  राधेश्याम बघेल, तहसीलदार ओमप्रकाश चोरमा, नायब तहसीलदार देवशंकर धुर्वे एवं वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी एस एन मोरे तथा राजस्व का अमला तत्काल नगर परिषद भैंसदेही की फायर ब्रिगेड ले कर गोरेगांव पहुंचा।

रात्रि में और प्रातः 4 बजे से स्थानीय प्रशासन द्वारा शासन एवं जिला कलेक्टर के निर्देशानुसार टीड्डी दल के खात्मे की पुरजोर कोशिशे जारी रही जो काफी हद तक सफल भी रही। जिस हेतु भैंसदेही की 2, आठनेर एवं बैतूल की 1-1 फायर ब्रिगेड द्वारा  टिड्डी दल पर कीटनाशक दवाई का छिड़काव किया गया।

उल्लेखनीय है कि कोरोना काल अभी जैसे तैसे कोरोना के संक्रमण से लोगों को बचाने की कवायद से प्रशासन उबरा भी नहीं था की किसानों के लिए आई आसमानी आफ़त में फिर प्रशासन ने अपने आप को झोंक दिया। और देर रात से अंधेरे का सामना करते हुए टीड्डी दल को खदेड़ने के साथ उनका खात्मा करने में जुट गया। स्थानीय प्रशासन का यह प्रयास वाकई में प्रशंसनीय है।

बता दे की अनुविभागीय अधिकारी राधेश्याम बघेल, तहसीलदार ओमप्रकाश चोरमा, नायब तहसीलदार देवशंकर धुर्वे एवं वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी एस एन मोरे तथा राजस्व का अमला नगर परिषद भैंसदेही की फायर ब्रिगेड ले कर गोरेगांव पहुंचे थे ।

इनका कहना है –

टिड्डी दल फसलों को नुकसान पहुंचाने वाला कीट है, जो कि एक साथ चलता है और बहुत लम्बी दूरियों तक उड़ान भरता है। यह फसल को चबाकर, काटकर खाने से नुकसान पहुंचाता है। उद्यानिकी फसलों, वृक्षों और फसलों को बहुत बड़े रूवरूप में एक साथ हानि पहुंचा सकता है।

इनसे बचाव हेतु परम्परागत उपाय जैसे-शोर मचाकर, ध्वनि वाले यंत्रों को बजाकर, डराकर, भगाया जा सकता है। ऐसे करने से टिड्डी दल नीचे न आकर फसलों पर न बैठकर आगे प्रस्थान कर जाते है।
हालांकि शासन के निर्देशानुसार  रासायनिक नियंत्रण द्वारा  सुबह से कीटनाशी दवा फायर ब्रिगेड स्प्रे  द्वारा जैसे-क्लोरोपायरीफॉस-20 ईसी.-1200 मिली. या डेल्टामेथरिन-28 ईसी. 600 मिली. और लेम्डाईलोथिन-5 ईसी 400 मिली. डाईफ्यूबिनज्यूरॉन-25 डब्ल्यू टी. 240 ग्राम प्रति हेक्टेयर 600 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव किया जा रहा है ।

तहसीलदार ओमप्रकाश चोरमा ,भैंसदेही