शाहपुर ब्लॉक में एक और कोरोना मरीज मिला

Scn news india

नवील वर्मा ब्यूरों
शाहपुर ब्लॉक में कोरोना महामारी के चलते पलायन किये  गये  मजदूर जो अपने अपने ग्राम पहुंचे हैं। और ग्राम में पहुंचने के बाद उन्हें प्रशासन द्वारा अजीब तरीके से क्वॉरेंटाइन किया जा रहा है। इसी कड़ी में मुंबई से आई एक युवती जो ग्राम छितरीबड़ ग्राम पंचायत मोखामाल मे 3 दिन पहले कोरोन्टाइन की गई थी ,ओर 2 दिन कोरोन्टाइन रहने के बाद कोरोन्टाइन का  माखौल उड़ाते हुए वह अपने घर को चली गई , सूत्रों से ज्ञात हुआ है की आज उसकी रिपोर्ट पाजिटिव आई है। जिसकी अधिकृत पुष्टि होनी बाकी है। लेकिन  प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है। अब उस पेशेंट के संपर्क में आए व्यक्ति को ढूंढा  जा रहे हैं। यदि वे लोग स्वयं ही आ कर प्रशासन को जानकारी देकर स्वास्थ्य परिक्षण करने में सहयोग करे तो प्रशासन का समय भी बचेगा और कम समय में  ज्यादा जाँच हो सकेगी।

वहीँ  युवती के इस तरह क्वारेंटाइन सेंटर से बिना बताये घर जाने की वजह से शाहपुर  प्रशासन  द्वारा चलाये जा रहे क्वारेंटाइन सिस्टम पर भी सवालिया निशान लग रहे  है। जबकि सार्वजनिक रूप से प्रशासन बाहर से आए व्यक्तियों की ग्रामों में व्यवस्था की दुहाई देते हुए जगह-जगह अपनी पीठ थपथपा रहा है।

आपराधिक कृत्य है –

क्वारेंटाइन से भागना , जांच में सहयोग ना करना , समाज में संक्रमण फैलाना आपराधिक कृत्य की श्रेणी में आता है। ऐसा करने पर एफआईआर भी दर्ज हो सकती है। वही किसी व्यक्ति के द्वारा ऐसा किया जाना सत्यापित होता है तो संबधित अधिकारी कर्मचारी के खिलाफ भी कानूनी कारवाही का प्रावधान है।

यही हाल सीवान पाठ में मिले मरीज के साथ भी है। जिसकी ट्रेवल हिस्ट्री बड़ी लम्बी है। बताया जा रहा है की सीवान पाठ में जिस मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वह मुंबई से नासिक , नासिक से खंडवा , खंडवा से चिचोली और चिचोली से पैदल पाढर , पाढर से अर्जुनगोंदी में रुके फिर कान्हावाडी में रुके ,फिर सीवन पाठ पंहुचे। इस दौरान कई लोगो के संपर्क में आये। अब उन लोगों की भी तलाश की जा रही है।