करोना, थोड़ी मस्ती, थोड़ी पढ़ाई

Scn news india

देवरी विकास परिहार 
देवरी कलां – प्रथम एजुकेशन फाउंडेशन द्वारा बच्चों को नए नए तरीके से पढ़ाने का कार्य किया जा रहा है जिसमें संस्था के सभी टीम के सदस्य एवं गांव में स्वयंसेवको की सहायता से फोन एवं डिजिटल कंटेंट के माध्यम से बच्चों को शिक्षा देने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।

इस समय की वर्तमान स्थिति में कोरोना वायरस बीमारी के चलते स्कूल एवं शैक्षणिक संस्थान बंद है एवं सभी बच्चे अपने अपने घरों के अंदर हैं। दूसरी ओर बच्चों के अभिभावको को पढ़ाई को लेकर चिंता सताने लगी है ऐसे समय जब तक स्थिति में सुधार नही हो जाता तब तक बच्चों को घर पर ही रहकर अभिभावको की सहायता से फोन पर ही शिक्षण कार्य कराया जा रहा है जिसमें बच्चों को कोरोना वायरस के संबंध में जानकारी दी गई है एवं मास्क बनाने और हाथ को कैसे साफ रखे इस सब बारे में बताया जा रहा है।
प्रथम संस्था के द्वारा जो भी कार्य फोन पर बताया जाता है उसे गांव से अभिवावक और स्वयंसेवक द्वारा जिम्मेदारी पूर्वक पूर्ण करवाया जाता है। अभी तक के शिक्षण कार्य को बच्चे मनोरंजन अंदाज में कर रहे है।


संस्था के सीआरएल के द्वारा गाँवो में फोन करके या व्हाट्सएप एवं एस एम एस के माध्यम से बच्चों के लिये डिजिटल कंटेंट और टास्क भेजे जा रहे है। साथ गांव के स्वयंसेवको और अभिवावकों को पहले बताया जाता है कि आप लोगों के बच्चों के लिए नए तरीके से शिक्षा का कार्य घर पर ही रहकर किया जाना है साथ बच्चों एवं समुदाय में लोगों को मास्क एवं सैनिटाइजर एवं साबुन से दिन में कई बार हांथ धोने के लिए जागरूक किया जा रहा है और सभी लोगों को सोशल डिस्टेंस का पालन भी करने के लिए कहा जा रहा है जिससे इस बीमारी से सभी लोग दूर रह सकें और ऐसे समय में जब तक स्थिति में सुधार नही हो जाता तब तक के लिए बच्चों को घर पर ही रहकर अपने अभिभावकों की सहायता से फोन पर ही शिक्षण कार्य कराया जा रहा है।

संस्था के टीम के सदस्य एवं समस्त सीआरएल द्वारा जो भी कार्य फोन पर बताया जाता है उसको बच्चों के अभिभावको और स्वयंसेवको द्वारा जिम्मेदारी पूर्वक टास्क को पूर्ण करा लिया जाता है। संस्था के द्वारा यह कार्य सागर जिले के सात ब्लॉक में संचालित किया जा रहा है सभी सात ब्लॉक के सीआरएल एवं स्वयंसेवक के द्वारा फोन पर डिजिटल कंटेंट के माध्यम से कार्य कराया जा रहा है।


साथ ही संस्था के जिला समन्वयक परमल बिश्नोई एवं ब्लॉक समन्वयक आलेख तिवारी नियमित रूप से इस कार्य का निरीक्षण कर रहे है साथ ही स्वयमसेवको से संपर्क में रहकर गांव से अपडेट प्राप्त कर रहे है।