पंचायत की उदासीनता से स्कूल , पंचायत, आंगनवाड़ी सब जलमग्न

scn news india

के के द्विवेदी 

पन्ना – सूना है कि  भारत की आत्मा गाँवों में बसती है  लेकिन उसी आत्मा का चीरहरण कैसे होता है ये देखने में आया है सिमरिया के ग्राम पंचायत बोदा में पंचायत की उदासीनता के चलते  स्कूल से लेकर आंगनवाड़ी और पंचायत  तक जलमग्न हो गया है । पानी की निकासी न होने के कारण ग्राम एवं खेतो से आनेवाले पानी ने रौद्र रूप धारण कर लिया है। जो चिंता का विषय है। जलभराव से जहाँ ग्रामीणों का जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है वही स्कुल आंगनवाड़ी सब ठप्प हो गए है। हालत ये है की लोग दैनिक कार्य भी नहीं करा पा रहे।  वही गंदगी पनपने से बीमारियों का खतरा भी बढ़ गया है।

दूसरी ओर स्कूली  बच्चों को भी इस मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है।  जबकि कुछ दिन पहले ही ग्रामीणों द्वारा तहसीलदार सिमरिया को अवगत कराया गया था और उनके संज्ञान में भी यह बात थी। जिसके बाद तहसीलदार  द्वारा  पंचायत कर्मचारियों को समुचित व्यवस्था बनाने हेतु निर्देश भी दिया था लेकिन पंचायत द्वारा कोई एक्शन नही लिया गया। जिसके चलते अब ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वही स्कूलों और आंगनवाड़ी परिसर में जल भराव की स्थिति होने से  स्कूल एवं आंगनबाड़ी में आने वाले बच्चों  के लिए मुसीबत  बनी हुई  है।

जबकि पंचायत चाहे तो वाटर हार्वेस्टिंग तकनीकी अपना पानी का संचय कर पर्यावरण संरक्षण की मिसाल कायम कर सकता है। जिससे क्षेत्र का वाटर लेवल तो बढ़ेगा ही साथ ही जलभराव की स्थिति से भी ग्रामीणों को मुक्ति मिल जायेगी।

निकलना हो रहा मुश्किल 
जलभराव होने से बच्चें क्या बड़ों का निकलना भी मुसीबत से कम नहीं है , फिर  आंगनवाड़ी में तो बच्चे 5 साल से भी कम उम्र के जाते है। जबकी दूसरी और प्राथमिक विद्यालय है यहाँ भी 5 से 10 साल तक के ही बच्चे आते हैं।  जिनके माता-पिता अपने बच्चों के उज्जवल भविष्य की आस में उन्हें शाला भेजते है और वे कभी फिसल कर तो कभी कीचड़ में पैर फसने से गिर जाते है।

बीमारियों का भी है बोलबाला
बरसाती पानी के साथ बहा कर आई  स्कूल से लेकर आंगनवाड़ी तक इतनी बड़ी बड़ी घास एवं कचड़ा का जमावड़ा लगा हुआ है जिससे मच्छरों भरमार है जो  बच्चों की सेहत के लिए खतरनाक है। जिससे मौसमी बिमारी व् संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है। प्रशासन को जिसे गंभीरता से लेना आवश्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!