आशा कार्यकर्ता की लापरवाही से घंटों तड़पती रही प्रसूता,घर पर ही हुआ प्रसव, 1000 रु नहीं देने पर परिजनों के साथ बदसलूकी और हाथापाई पर हुई उतारू

scn news india

मोहम्मद आज़ाद

अजयगढ- प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं का हाल लगातार बद से बत्तर होता जा रहा है , हालत ये है की गरीबों को शासकीय स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा , और तो और ग्रामीण अंचलों में नियुक्त स्वास्थ्यकर्मी बिना रिश्वत लिए काम नहीं कर रहे पैसे नहीं देने पर मारपीट पर उतारू हो जाते है ऐसा ही एक मामला अजयगढ़ तहसील के देवगांव में सामने आया जहां प्रसव पीड़िता को आशा कार्यकर्ता की लापरवाही का खामियाजा भुगतना पड़ा आखिर महिला का प्रसव घर पर ही हो गया। बात इतनी होती तो भी चलता किन्तु जब एक घंटे बाद आशा कार्यकर्ता राजकुमारी वर्मा  मौके पर पंहुची तो  ड्राइवर को 1000-500 किराया भाड़ा देने की जिद पर अड़ गई जब मौजूद लोगों ने इस घटना का विरोध किया तो मारपीट पर उतारू हो गई। जिसका किसी शख्स ने पूरा वीडियो बना लिया।  अब परिजनों ने इस की शिकायत SDM से की है।

पूरा मामला 

अनुविभागीय अधिकारी के नाम अजयगढ़ तहसील में देवगांव के राजकुमार अहिरवार ने आशा कार्यकर्ता के राजकुमारी वर्मा के खिलाफ शिकायती आवेदन दिल देकर बताया कि 26 अगस्त 2019 को देवपुर ग्राम पोस्ट पिस्टा में अचानक मेरी भाभी अनीता अहिरवार को प्रसव दर्द चालू हुआ। जिसकी सूचना आशा कार्यकर्ता राजकुमारी वर्मा  को देने पर उनके द्वारा एम्बुलेंस को फोन करने को कहा गया।

कॉल करने की 45 मिनिट बाद एंबुलेंस क्रमांक mp09AC8182 मौके पर पहुंची जिसके चालक ने आशा कार्यकर्ता के बिना प्रसव पीड़िता को ले जाने से मना किया। आशा को दोबारा फोन करने पर कहा गया की मुझे आने में टाइम लगेगा आप महिला को गाड़ी में बैठा कर अस्पताल ले जाइए जिसके पश्चात महिला को घर के सदस्यों की सहायता से गाड़ी में बैठाने को कहा परंतु ड्राइवर ने मना कर दिया और कहा जब तक आशा कार्यकर्ता नही आ जाती और वह प्रसव वाले स्थान का सही स्थान निर्धारित नही करती मै  नही ले जा सकता।

आशा कार्यकर्ता को फिर फोन लगाया गया परन्तु आशा कार्यकर्ता घंटो प्रसव पीड़िता के पास नही पहुंची जिससे प्रसव पीड़ित महिला को बहुत ज्यादा कष्ट का सामना करना पड़ा और महिला की डिलेवरी घर पर कराना पड़ी । इसके उपरांत आशा को फिर फोन लगा कर बताया कि प्रसव घर पर हो गया है तो आशा ने कहा ड्राइवर को 1000-500 किराया भाड़ा दे दो वह अस्पताल ले जाएगा । प्रसव होने के बाद ड्राइवर को लगा कि यही सही स्थान है तो आशा की परवाह किए बगैर महिला को गाड़ी में बैठा कर अस्पताल ले गया। गाड़ी जाने के आधे घंटे बाद आशा कार्यकर्ता आई उसने पूंछा की महिला को ले गए घर वालों ने कहा हा – तब आशा ने पूछा की ड्राइवर को कुछ पैसे दिए है  क्या …. तो मैने कहा पैसे क्यों दू ये सुनते ही आशा गलत तरीक़े से पेश आई और अपशब्दों का प्रयोग करने लगी जिसका वीडियो शूट किया गया है।
आशा का समय पर न पहुंचना ड्राइवर को पैसे देने की बात कहना ओर पीड़ित महिला के घर वालों से अपशब्दों का प्रयोग करना कही न कही उसकी कार्य शैली ली को दर्शाता है आगे कोई आशा ऐसी गलती न करे जिससे महिला को परेशानी का सामना करना पड़े इस लिए कलेक्टर से कार्यवाही की उम्मीद की जा रही है ।

इनका कहना है

♦पीड़ित पक्ष द्वारा इस संबंध में शिकायती आवेदन दिया है जो संबंधित अधिकारी bmo के पी राजपूत को आशा द्वारा पैसे की मांग और समय पर न पहुंचे व अभद्रता का लेख किया गया है।
धीरज गौतम तहसीलदार अजयगढ़

♦अभी में अजयगढ़ से बाहर हूं मुझे इस मामले की जानकारी नही है अगर तहसीलदार ने ऐसा पत्र भेजा है तो अजयगढ़ पहुंच कर संज्ञान में लूंगा।
Bmo के0 पी0 राजपूत अजयगढ़

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!