उद्दंड पेट्रोल पंप संचालक ने महिला बैंक मैनेजर से की अभद्रता ,मैनेजर थाने पहुँची तो पैर पकड़कर माफी मांगी, घोड़ाडोंगरी पुलिस ने की प्रतिबंधात्मक कार्यवाही

Scn news india

प्रवीण मलैया ब्यूरों
बैतूल । लॉकडाउन के दौरान घोड़ाडोंगरी के एक पेट्रोल पंप संचालक द्वारा बार बार की जा रही उद्दण्डता से प्रशासन खासा परेशान है। कुछ दिन पहले लॉकडाउन के जानबूझकर उल्लंघन की वजह से पुलिस के कोपभाजन का शिकार हुए इस पम्प संचालक को शायद पुलिस के डंडे भी सही नसीहत नहीं दे पाए थे। इसीलिए उसकी उद्दण्डता कम होने के बजाए और बढ़ी हुई दिखाई पड़ रही है। इस बार इस बिगड़ैल युवा व्यवसायी ने एक बैंक मैनेजर महिला से बैंक के अंदर ही ऐसी अभद्रता की कि मामला पुलिस तक पहुंच गया । मामला घोड़ाडोंगरी स्थित बैंक ऑफ इंडिया का है और पेट्रोल पंप संचालक है सुमित सपरा। यह सुमित सपरा वही है जो ठीक एक माह पहले घोड़ाडोंगरी में जानबूझकर लॉकडाउन का उल्लंघन करने के कारण पुलिस के हाथों पीटा गया था और जमकर मीडिया की सुर्खियों में छाया हुआ था। ताजा घटना 5 दिन पूर्व की है जब यह युवा व्यवसाई बैंक ऑफ इंडिया की घोड़ाडोंगरी शाखा में किसी गलत बैंकिंग कार्य हेतु बैंक प्रबंधक शिखा आथनकर पर अनावश्यक दबाव बना रहा था। पता चला है कि पहले इस कार्य हेतु सुमित ने अपने नौकर को बैंक भेजा था और बैंक मैनेजर को फोन कर दबाव बनाने की कोशिश की थी। लेकिन बैंक मैनेजर ने फोन पर कार्य करने से मना कर दिया तो सुमित खुद तमतमाता हुआ बैंक जा पहुँचा और बैंक मैनेजर से जमकर अभद्रता की और उसे धमकाया भी। लेकिन बैंक मैनेजर द्वारा तब भी कार्य करने में असमर्थता व्यक्त की गई तो यह उसे देख लेने की धमकी देते हुए बैंक से चला गया। सुमित के बैंक से जाने के बाद डरी हुई बैंक मैनेजर ने घोड़ाडोंगरी पुलिस में लिखित आवेदन देकर कार्यवाही की मांग की है। पता चला है कि बैंक मैनेजर द्वारा पुलिस की शरण लेने की खबर मिलते ही इस उद्दंड युवा व्यवसायी को पिछली पुलिसिया कार्यवाही याद आ गई और यह याद आते ही वह बैंक मैनेजर से मिलकर माफी मांगने लगा। बैंक मैनेजर जब उसे माफ करने को तैयार नहीं हुई तो यह कई प्रभावशाली लोगों को लेकर बैंक पहुंचा और बैंक मैनेजर के पैर पकड़कर माफी मांगी । पता चला है कि सुमित सपरा द्वारा बैंक मैनेजर को लिखित माफीनामा भी सौंपा गया जिसके बाद बैंक मैनेजर ने घोड़ाडोंगरी पुलिस को पुनः आवेदन देकर सुमित के माफीनामा का जिक्र करते हुए कार्यवाही को यहीं विराम देने का अनुरोध किया है ।

पुलिस सूत्र बताते हैं कि मामले से बचने के लिए सुमित सपरा द्वारा साम दाम दंड भेद सभी तरह के उपाय आजमाए जा रहे हैं। पुलिस इस मामले में आगे क्या कार्यवाही करते हैं यह तो समय के साथ पता चलेगा लेकिन त्वरित कार्यवाही करते हुए पुलिस ने धारा 107, 116(3) crpc के तहत सुमित सपरा को 6 माह के लिए बाउंड ओवर तो कर ही दिया है।

इनका कहना है –

सुमित सपरा ने बताया की नाही वे उदण्ड है और नाही उन्होंने कोई माफीनामा सौपा है। अलबत्ता उन्होंने महिला बैंक मैनेजर पर आरोप लगते  हुए कहा है कि विगत 6 माह से उनके द्वारा ब्याज की राशि अधिक ली जा रही थी जिसे ले कर छोटी सी कहा सुनी हुई  थी।

सुमित सपरा पेट्रोल पम्प संचालक घोड़ाडोंगरी