जमीन से फूटी जल धारा , प्रशासन कर रहा तीर्थ और मेले लगने का इन्तजार

Scn news india

रविकांत बिदौल्या /मनोहर भोपाल
हटा दमोह – पौराणिक कथाओं में सुना था की भीष्मपितामह की अंतिम ईच्छा पूरी करने अर्जुन ने तीर चला तीरों की शव शैय्या के पास जमीन से माँ गंगा को अवतरित कराया था।  ऐसा ही नजारा दमोह जिले के उपकाशी नगरी हटा में बीते कुछ दिनों से दिखाई दे रहा है। फर्क इतना है की इसका समय निर्धारित है। जब नगर पालिका का कोई अर्जुन नगर में पानी की सप्लाई करने बटन दबाता है तो जमीन से यह जलधारा फुट पड़ती है। बस देर है तो इसकी प्रसिद्धि फैलने की ताकि जल्द ही यहाँ मेले लगने लगे। शायद यही मंशा है नगर पालिका की …..? क्योकि व्यस्ततम मार्ग से गुजरने वाले जनप्रतिनिधियों और प्रशासनिक अधिकारियों को तो ये दिखाई नहीं दे रहा। और लाखों लीटर पानी व्यर्थ हो रहा है।

जबकि सूर्योदय के साथ ही नगर को स्‍वच्‍छ बनाने की संगीतमय आवाज रथ रूपी कचरा वाहनों से नगर में गूंजने लगती है, व्हाट्सएप , फेसबुक सहित अन्‍य सोशल मीडिया माध्‍यमों से शहर को स्‍वच्‍छ बनाया जा रहा है , लेकिन जब जमीन पर उतरकर आते और देखते है तो पता चलता है, पूरी रात रात जान्‍ते में पिसाई की ओर पारे में उठाया जा रहा है.


यहां के कर्णाधार, जनप्रतिनिधियो ने इस शहर को कभी माडल शहर, स्‍मार्ट सिटी, पवित्र् नगरी आदि अनेक सपने दिखाये, ये सारे सपने उस समय धाराशाही हो जाते है जब सारा तंत्र् नगर की मूलभूत व्‍यवस्‍थाओं को दर किनारे करते हुए केवल एकानामिक कार्यो पर ध्‍यान देने लगता है,
नगर का सौभाग्‍य कि यहां से गंगा रूपी सुनार नदी की जलधारा निरंतर प्रवाहित होती है, इस वर्ष भरपूर बरसात से नदी में भी भरपूर पानी लम्‍बे समय तक बना रहा, लेकिन वर्तमान में जिस गति से नगर का एवं नदी का जलस्‍तर घट रहा है वह आने वाले कल को सचेत कर रहा है, लेकिन जिम्‍मेदार लोग इस ओर से ध्‍यान हटाकर केवल कागजी घोडे दौडाने में लगे हुए है,
नगर के बडा बाजार में पटेरिया काम्‍पलेक्‍स के पास कन्‍हैया गुप्‍ता पान दुकान के सामने विगत दो माह से पाइप लाइन लीकेज है, जब इस लाइन से पानी सप्‍लाई प्रारंभ होता है तो लोग यहां फब्‍बारा का आनंद लेते है, पानी आसपास पूरे क्षेत्र में फैलता है, यहां बिन बरसात के भी पानी भरा रहता है, इसी के पास ही कचहरी तिराहा की नाली का पानी विगत एक साल से सडक के उपर से बह रहा है सारे प्रशासनिक अधिकारी यहीं से निकलते है लेकिन कोई इस ओर ध्‍यान नहीं दे पा रहे, पहले जो सडक लोक निर्माण विभाग के पास थी अब वह नगर पालिका को हस्तांतरित हो चुकी इसके बाबजूद भी इस तकनीकी फाल्‍ट को सुधारा नहीं जा रहा है, इसी तिराहा से आजाद वार्ड जाने वाली गली में कई पानी सप्‍लाई की लाइन लीकेज है उनके कारण चारों ओर कीचड मचा रहता है, ऐसे में कैसे नगर को स्‍वच्‍छता की होड ले सकता है,
नगर के रेस्‍टहाउस के पास लगा सार्वजनिक नल का पाईप ही कोई निकालकर ले गया, विगत दस दिन से जल सप्‍लाई के समय यहां फुब्‍बारा के रूप में पानी बह रहा है, जानकारी सभी को है लेकिन कोई सुधार कार्य करने को तैयार नहीं है, पुरानी गल्‍ला मंडी चारा बाजार में हेण्‍डपंप के पास सोखता गड्डा न होने के कारण इसका पानी दूर दूर तक फैल रहा है, आसपास के लोगों ने सोखता गड्डा निर्माण में सहयोग देने की बात कही फिर भी कोई ध्‍यान नहीं दिया गया,
नावघाट स्‍कूल, पोस्‍टआफिस के पास लगे कचरे के ढेर से आसपास पूरे में प्रदूषण फैल रहा है, मकान निर्माण सामग्री सडको पर पडी है जिसके कारण दुर्घटनाएं घटित हो रही है, ये सामग्री एक दो दिन नहीं कई महीनों से पडी है, जिसे नपा भी नहीं उठवा पा रही है, बहुत सोचा कि नकारात्‍मक न लिखू लेकिन जब पीर पर्वत का रूप धारण कर लेती तो लिखने मजबूर हो जाता हूं।

प्रदेश में डेंगू हाई अलर्ट मोड़ पर है –

जहाँ प्रदेश में सरकार डेंगू के लिए व्यापक जागरूकता लाने जिला कलेक्टर के माध्यम से युद्ध स्तर पर प्रचार प्रसार कर रही है वही सड़क पर फ़ैल  में पानी में पालिका को लार्वा पनपने का कोई भय नहीं है। कचरा बदबू मार रहा है , हजारों लीटर पानी बेकार व्यर्थ हो रहा है। सड़क के आस पास जमा हो रहा है। यदि ऐसा थोड़े दिन और रहा तो डेंगू के लार्वा पनपने में देर नहीं लगेगी ।  जिला प्रशासन को ही इस और ध्यान देना होगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

All rights reserved by "scn news india" copyright' -2007 -2019 - (Registerd-MP08D0011464/63122/2019/WEB)  Toll free No -07097298142
error: Content is protected !!