कोरोना संक्रमण के प्रति जागरूक कर , बाँट रहे ग्रामीणों को मास्क, सेनेटाइजर

Scn news india

शारदा श्रीवास मंडला 

मंडला -वर्तमान समय में  भारतीय नारी चार दीवारी से निकल कर अपने अधिकारों के प्रति सजग हो गयी है। शिक्षित होकर विभिन्न क्षेत्रों में वो अच्छा प्रदर्शन कर रही है। नारी ने प्रमाणित कर दिया की वो भी इस पुरुष प्रधान देश में अपना लोहा रख सकती है। आज उसकी प्रतिभा और दृश्टिकोण पुरुष से पीछे नहीं है।

साहित्य ,चिकित्सा ,विज्ञान , अनेक ऐसे क्षेत्र है। जिसमें नारी ने अपनी प्रतिभा प्रदर्शीत की है। केवल पुरुष का क्षेत्र मानने वाले पुलिस विभाग में भी नारी मुस्तैदी से अपना कार्य कर रही है। और पुरुष से पीछे नहीं है। कल्पना चावला, बछेंद्री पाल ,ऐसी कई इस्त्रियाँ है अगर जिनका नाम गिनने लगे तो शायद पूरी किताब पड़ ले उनके बारे में या लिखने बैठे तो कॉपी के पन्ने भी कम पड़ जायेंगे।

आज नारी अंतरिक्ष में जाने के साथ ही हिमालय की दुर्गम चोटी पर भी चढ़ रही है। और ऐसा कोई क्षेत्र नहीं छोड़ रही है जहाँ वो अपनी विजय का झंडा ना फेरा रही हो।जी हां ऐंसी ही एक महिला मंडला जिले के नैनपुर क्षेत्र की सुश्री वंदना टेकाम हैं जो लगातार ग्रामीण क्षेत्रों मे जा जाकर महिलाओं को पुरुषों बच्चों बुजुर्गों को मास्क बांटने के साथ ही वर्तमान मैं फैली कोरोना महामारी सुरक्षा के उपाय आपसी दूरी व अनावश्यक बाहर न निकलने का सुझाव लोगों को दे रही हैं।

सुश्री वंदना टेकाम आदिवासी सेवा मंडल की प्रदेश सचिव भी हैं सुश्री टेकाम बताती हैं कि मक्के की स्वसहायता समूह की महिलाओं से मास्क बनवाया जा रहा है अब तक इनके पास एक ही सिलाई मशीन थी तो मैने घर से मशीन दी है सिलाई के लिए मक्के स्वसहायता समूह वाली महिलाओं को और अब तक चरगांव बरबसपुर भैंसवाही व अन्य ग्रामों मे मास्क के साथ घरेलू सेनटाइजर भी दे रहे हैं।