कलेक्टर ने एसडीएम को निर्देश दिए अपने अपने अनुविभाग में उपार्जन संबंधी तैयारियां करें

Scn news india

  • कलेक्टर ने एसडीएम को निर्देश दिए अपने अपने अनुविभाग में उपार्जन संबंधी तैयारियां करें।
  • केंद्रों पर भी निरीक्षण करके स्थिति का जायजा ले।
  • खरीदी केंद्रों पर सोशल डिस्टेंस का पालन कराना है।

स्वप्निल जैन खनियांधाना 
कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने सोमवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित बैठक में गेहूं उपार्जन की तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने सभी एसडीएम को निर्देश दिए हैं कि अपने अपने अनुविभाग में उपार्जन संबंधी तैयारियां करें। केंद्रों पर भी निरीक्षण करके स्थिति का जायजा ले। उन्होंने कहा है कि इस समय कोरोनावायरस महामारी के प्रकोप को देखते हुए खरीदी केंद्रों पर व्यवस्थाएं करना है। खरीदी केंद्रों पर सोशल डिस्टेंस का पालन कराना है।
उन्होंने कहा है कि खरीदी केंद्रों पर पर्याप्त मात्रा में सैनिटाइजर और मास्क भी उपलब्ध रहे। सभी कर्मचारियों को मास्क और सैनिटाइजर का उपयोग करना है। उन्होंने सभी एसडीएम को निर्देश दिए हैं कि खरीदी केंद्रों पर छाया के लिए टेंट लगवाएं और पेयजल की व्यवस्था करें।
बैठक में अपर कलेक्टर आर एस बालोदिया, समस्त एसडीएम, डिप्टी कलेक्टर, जिला आपूर्ति अधिकारी, जीएमसीसीबी, उपसंचालक कृषि विभाग, नान और संबंधित विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।
किसानों की सूची चस्पा करने के निर्देश
कलेक्टर ने केंद्र पर किसानों की सूची चस्पा करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि इसमें जिस दिन जिन किसानों को एसएमएस भेजा गया है। उनकी सूची केंद्र पर ही चस्पा करें ताकि किसानों को भी पता रहे। केन्द्रों पर भीड़भाड़ नहीं करना है।
किसानों को एसएमएस के माध्यम से दी जाएगी सूचना
उपार्जन के लिए किसानों को एसएमएस के माध्यम से सूचना दी जाएगी। इसी के अनुसार किसानों से खरीदी की जाएगी। जिन किसानों को एसएमएस भेजा गया है। निर्धारित दिन पर उन्हीं किसानों को खरीदी केंद्र पर आना है। और सोशल डिस्टेंस का पालन करना है साथ ही सभी को मास्क का भी उपयोग करना है।
अनियमितता पाए जाने पर समिति प्रबंधक पर होगी कार्यवाही
कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने बैठक में निर्देश दिए हैं कि यदि खरीदी प्रक्रिया में समिति प्रबंधक के कार्य में लापरवाही या अनियमितता पाई जाती है तो उसके विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी।
जिले में 70 केंद्रों पर होगी गेहूं खरीदी
जिले में गेहूं उपार्जन के लिए 70 केंद्र बनाए गए हैं जिनमें शिवपुरी में 7, कोलारस 9, बदरवास 8, करैरा 8, नरवर 8, पिछोर 13, खनियाधाना 12 और पोहरी में 5 केंद्र बनाए गए हैं।