आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का बैनर राजनीती की भेंट चढ़ा, मंच पाने होढ़ मची , जनता मूक दर्शक बन देख रही तमाशे

Scn news india

दीपक शर्मा  ग्राउंड जीरो से खबर

नैनपुर- लोक तंत्र में जनता सर्वोपरि होती है पर अब आज के परिवेश में जनता तो मूक दर्शक दीर्घा में खड़ी भर होती है सरकारे आती जाती है पर राजनितिक दलो की महत्वकांक्षा  सिर चढ़ के बोलती है ,जो जनता के बीच जग हँसाई का कारण बन जाती है।  सत्ता बदलो वक्त बदलेगा इस नारे के साथ कांग्रेस ने शिव राज सिंह चौहान के 15 साल का मिथक तोड़ दिया , पर ये कमल नाथ सरकार 5 साल के पहले ही उनके नेता अपनी ही सरकार में मंच के लिये लड़ रहे है उस से ये लग रहा है की सरकार किस की है बीजेपी की या कांग्रेस की।

पहली तस्वीर में मंच पर बैनर

नैनपुर में आपकी सरकार आपके द्वार का होने वाले शिविर को अचानक बदल के जिला प्रशासन ने ग्राम पंचायत चिरईडोंगरी में कर दिया उसके पीछे की मंशा जिला प्रशासन जाने पर वहाँ भी ये शिविर बीजेपी कांग्रेस ने विवादित कर दिया और जो लाभ जनता को मिलना था मिला नही। जनता इनकी नूरा कुश्ती देख के चलती बनी जो भीड़ थी वो विभागीय अमले की थी न की जनता की,  ऐसे में कैसे कमलनाथ सरकार की मंशा आपकी सरकार आपके द्वार सफल होगी आदिवासी अंचल में बड़ा सवाल लिए हुए है।

दूसरी तस्वीर में मंच से बैनर गायब
दूसरी तस्वीर में मंच से बैनर गायब

मंच की लड़ाई

शिविर आयोजित किया गया था जनता के बीच जाकर एक गांव में घर घर कलेक्टर सहित अमले को मिलना था , दूसरे गांव में जाकर शिविर लगाना था ,यहाँ शिविर में जो बैनर लगा उस को देख कर कांग्रेस वाले झल्ला गये।  दरअसल  मंच पर और  बैनर में बीजेपी के नेता का कब्जा था।

फिर क्या था ,एस डी एम हटाओ,तहसीलदार हटाओ,के नारे के साथ कांग्रेसी मैदान में आ गए,जब जाकर कलेक्टर मण्डला ने मोर्चा संभाला और कांग्रेस जनो से बात की मौके पर मंच से बैनर हटाया गया कांग्रेस जनो को मंच पर बुलाया गया तब जाकर शिविर में शांति आई।

100 बेड के अस्पताल के लिए नही लड़ते कांग्रेसी

जन हित में तीन जिलों को लाभ देने वाला नैनपुर के बाला घाट सड़क मार्ग पर बनने वाला सिविल अस्पताल के लिये कभी कांग्रेस जनो ने लड़ाई नही लड़ी न बीजेपी के नेताओ ने, बक़ौल कलेक्टर मण्डला ने हम से जब बात हुई थी तो अक्टूबर माह में सेवा देने लगेगा सिविल हॉस्पिटल ये बताया गया था । पर क्या अगले साल के अक्टूबर में सिविल होस्पिटल सेवा देगा ये संशय बना हुआ है कोई जिम्मेदार जन प्रति निधि बोलने को तैयार नही है ।

अदिवासी जिला में आदिवासी समाज़ की दुर्गति

यह जमीनी हकीकत है की इस जिले में आदिवासी समुदाय की दुर्गत हो रही है ,उन को स्वस्थ लाभ नही मिल पाता, ग्राम पंचायत समनापुर थाना नैनपुर की अनुसुईया भलावी एक सड़क घटना में 1 दाये पैर में घुटने के नीचे 2 फेक्च र आये थे, नैनपुर से जिला अस्पताल रिफर की गई 1हफ्ते बाद भी आदिवासी समाज़ से वास्ता रखने वाली गरीब बच्ची अस्पताल में पड़ी रही, आज भी वह किस हालात में है पता नही. जब की मण्डला जिला सरपंच से लेकर सांसद तक इन समाज के है , धन्य है।  आदिवासी जिले  के जन प्रति निधि औऱ जिला प्रशासन तो जिला हॉस्पिटल में सुधार नही ला पा रहे  है। और  दिखावे के शिविर में मंच पर बैनर के लिए नूरा कुश्ती दंगल हो रहे है।

जनता बनी मूकदर्शक

मण्डला जिला में हर विभाग में बिना लिये दिए काम नही होता कर्म चारी को अपने या स्टाफ का काम कराना है तो बाबूओ को पैसा देना होता है,लोकायुक्त पुलिस तो आने वाले समय में एक आफिस खोल लेगा मण्डला  में,  इतनी शिकायत होती है तीन डॉ को  लोकायुक्त पुलिस ने रंगे हाथो पकड़ा . उसके बाद भी जिला अस्पताल में लेंन देन हो रहा है , सरकार बदल गई ट्रांसफर उधोग ने तेजी पकड़ ली, जिस से सरकारी दफ्तरों में काम कम बोरिया बिस्तर समेटा ज्यादा जा रहा है। बहरहाल ऐसे सरकारी शिविर होम वर्क के आभाव में फेल हो जाते है की मंच पर किस प्रकार का बैनर लगना है। धन्य है हमारे जन प्रति निधि जो बैनर तक सिमट गये और जनता से दूर होते जा रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

All rights reserved by "scn news india" copyright' -2007 -2019 - (Registerd-MP08D0011464/63122/2019/WEB)  Toll free No -07097298142
error: Content is protected !!