भारी ओलावृष्टि से गेहूं, चना, सहित सब्जियों की फसल खराब

Scn news india

नवील वर्मा ब्यूरों शाहपुर 

भौरा- अचानक हुए मौसम में बदलाव और तेज बारिश के कारण किसानों की कई फसलें बरबाद हो गई है। हवा और बारिश के साथ ही भारी ओलावृष्टि से गेहूं, चना, की फसल सहित सब्जियों की फसल भी खराब हो गए हैं।
क्षेत्र में बुधवार को दोपहर में तेज बारिश ने किसानो की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। बारिश की वजह से रबी की खड़ी फसलों पर बुरा असर पड़ा है,जिसमे गेंह और चने की फसलों का 20 फीसदी से अधिक नुकसान होने की आशंका जताई जा रही है।

किसानों की चिंता ये है की अगर आगे और बारिश हुई तो खेतों में खड़ी फसले पूरी तरह चौपट हो जाएगी। बुधवार तेज हवाओं के साथ हुई बारिश से गेंहू की फसल जमीन पर बिछ गई है। माना जा रहा है कि इस बारिश से तकरीबन 20 फीसदी पैदावर पर असर पड़ने की संभावना है। अब गेंहू के दाने पतले हो जायेंगे जिससे फसल की कटाई के बाद किसानो को उपज का दाम कम मिलेगा। वहीं चने की फसल पर भी बारिश ने खासा असर डाला है । गरज चमक और तेज हवाओं के साथ बरसात होने से खलिहान में पड़ी फसल भीग गई खेतों में तैयार गेहूं की फसल प्रभावित हुई। किसान तैयार फसलों को भी अब और कुछ दिन नहीं काट पाएंगे।ऐसे हालत में बारिश से किसानों का धैर्य टूटता नजर आ रहा है।

क्षेत्र में तेज बारिश होने से सुखी नदी में 3 फीट पानी बढ़ा

इनका कहना

कुंडी के किसान सिकंदर बटके ने बताया कि बिन मौसम बरसात और तेज हवाओं के कारण उनकी महीनों की मेहनत बर्बाद हो गई है। तेज हवा और ओले के कारण सारी फसलें उजड़ गई है, जिससे हमारा बहुत नुकसान हुआ है।

सामाजिक कार्यकर्ता कैलाश पाटनकर ने कहा है कि बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से किसानों को भारी नुकसान हुआ है। पिछले समय भी ओलावृष्टि से किसानों की फसलें बर्बाद हुई थी। आज किसान दुःखी और हताश हैं। उन्होने कहा कि हम सरकार से मांग करते हैं कि बेमौसम बरसात और ओलावृष्टि से बर्बाद हुई फसलों का आंकलन कराकर तुरन्त किसानों को आर्थिक मुआवजा दिया जाए, जिससे किसानों को थोड़ी राहत मिल सके।

यहां पर हुई बारिश के साथ ओलावृष्टि

भौरा,टिमरनी, डाबरी,खरवार, डोडरामउू, खपरिया,परसदा,भीमपुरा, रामापुरा, पाट,कासमार, टेकरीपुरा,कुंडी ,मर्दानपुर, दौड़ी, पहाबाड़ी ,रायपुर ,बांका ,कामठी,