अवैध कटाई मामले में नही हुई कार्रवाई ,फरार आरोपियो को अब तक गिरफ्तार नही कर पाये वन विभाग के अधिकारी

Scn news india

प्रवीण गौर ब्यूरों होशंगाबाद 

होशंगाबाद // इन दिनो सामान्य वनमडंल कार्यालय होशंगाबाद मे पदस्थ एक वरिष्ठ अधिकारी की कार्यप्रणाली चर्चाओ मे बनी हुई है । गौरतलब रहे कि कुछ माह पहले ही सोहागपुर के प्रशिक्षु एसडीओ विजय सिंह मोरे अवैध वसूली के मामले मे रंगे हाथ लोकायुक्त के हाथो दबोचे गये थे । जिसकी आंच सीसीएफ सहित डीएफओ वह अन्य के गिरेबान तक पहुची थी। जिसके कारण पूरे प्रदेश मे होशंगाबाद के सामान्य वनमडंल के अधिकारीयो की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे मे नजर आ रही है । अभी यह मामला शांत भी नही हुआ था कि होशंगाबाद की सिवनी मालवा सर्किल की आमाकटारा बीट मे सागौन तस्करो ने लगभग 27 पेडो का सफाया कर दिया । इस मामले मे भी होशंगाबाद के डीएफओ अजय कुमार पांडे के द्वारा अब तक जिम्मेदारो पर कोई कार्रवाई नही की गई । इतना ही नही अवैध कटाई के आरोप मे लगभग डेढ दर्जन से अधिक आरोपियो को पहले गिरफ्तार किया गया और बाद मे छोड दिया जिसकी जनचर्चाये सर्वत्र व्याप्त है । बाद मे तीन आरोपियो के गिरफ्तार किये जाने की खबर एसडीओ के एस सेंगर ने दी। लेकिन थोडी ही देर बाद एसडीओ ने बताया था कि तीनो आरोपी वन चौकी से फरार हो गए । इस गंभीर मामले मे भी डीएफओ अजय कुमार पांडे के द्वारा अब तक जिम्मेदारो के विरुद्ध कोई कार्रवाई नही की गई । उल्लेखनीय रहे की कुछ माह पहले ही केसला मे एक ट्रक व बुलेरो वन विभाग की टीम ने जब्त कर लाखो की सागौन बरामद की थी जिसमे भी दो मुख्य आरोपी अब तक फरार है । जिनकी गिरफ्तारी के लिये सामान्य वनमडंल के वरिष्ठ अधिकारी ने एक टीम का गठन किया था जिसमे होशंगाबाद के एसडीओ सहित वन परिक्षेत्र अधिकारी सिवनी मालवा व अन्य को शामिल किया गया था ।टीम को अब तक कोई सफलता नही मिली है । बाबजूद इसके वन माफियाओ ने एक बार पुनः आमाकटारा बीट मे अवैध कटाई कर वनकर्मीयो व स्थानीय अधिकारीयो की कार्यप्रणाली पर सवाल खडे कर दिये। पहले गिरफ्तारी, फिर फरार, कहकर वनअधिकारियो ने अपना पलड़ा झाड लिया है । हलांकि इस गंभीर मामले की शिकायत पीसीसीएफ सहित मुख्यमंत्री को भी कर दी गई है । अब देखना यह है कि आने वाले दिनो मे इस गंभीर मामले मे कौन कौन कर्मचारी व अधिकारी नपते है,,,?