राम नाम का सुमिरन करने से ही अनेकों विपदाये दूर हो जाती है पंडित नीलमणि दीक्षित

Scn news india

संतोष मोदी ब्यूरों नरसिंहगढ़
12 वर्षों से नरसिंहगढ़ के राम मंदिर में हो रही संगीतमय श्रीराम कथा के पांचवे दिवस कथा व्यास पंडित नील मणि दीक्षित ने कहा कि र रामविरह व्याकुल भरत सानुज सहित समाज पहुनायी करी हर हूं श्रम कहां मुद्दत मुनिराज ने प्रसन्न होकर कहा कि छोटे भाई शत्रुघन और समाज सहित भरत जी श्री रामचंद्र के विरह में व्याकुल हैं और उनकी चरण पादुका कोही नमन कर प्रजा के काम कर रहे हैं !राम नाम का सुमिरन करने से ही अनेकों कष्ट परिवार के हर जाते हैं इसलिए सबसे बड़ी संपत्ति भगवान को याद रखना है और सबसे बड़ी विपत्ति भगवान को भूल जाना है पंडित दीक्षित ने कथा श्रोताओं को राम कथा श्रवण कराते हुए कहां की निष्काम व्यक्ति को खरीदा नहीं जा सकता वासना वान व्यक्ति को कभी भी खरीदा जा सकता है।

इस अवसर पर बी. पी. तिवारी वाइस प्रेसिडेंट ने भजन गाकर उपस्थित कथा श्रोताओं को मंत्र मुक्त कर दिया कथा संयोजक श्री अजय टंडन जी ने कहा मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की प्रेरणा एवं श्री हनुमान जी के संरक्षण में राम कथा का यह बारहवा वर्ष है कथा श्रोता अनिल टंडन ने कथा के पूर्व व्यासपीठ की वि धिवत पूजन अर्चन किया गया इस अवसर पर आर. एन. राय सीनियर वाइस प्रेसिडेंट नवीन तिवारी जुगल शुक्ला अजय सरवरिया संतोष पटेल हरिदास शर्मा एवं पटेरा से आए संजय पालीवाल नितेश बड़कुल अर्जुन सिंह के साथ अनेकों ग्रामों से आए महिलाओं एवं ग्रामीण जनों की उपस्थिति रही आज राम कथा पुनः 3:30 बजे से प्रारंभ होगी, श्री राम कथा श्रवण करने के लिए वाहन साधन से कथा श्रोताओं को लाने ले जाने की व्यवस्था राजेंद्र बिधौलिया जी द्वारा की गई है!

पूर्व कृषि मंत्री डॉ रामकृष्ण कुसमरिया श्री राम कथा में सम्मिलित हुए और अयोध्या से आए हुए संत जी महाराज के द्वारा श्री राम कथा के बाद मंच से संत महाराज जी ने समाज सुधार के लिए कुछ दो तीन बातें बताएं जैसे कि दीवाल घड़ी के लिए चलने के लिए सेल की जरूरत होती है इसी प्रकार आत्मा को सत्संग भागवत कथा की जरूरत होती है और कथा से ऊर्जा मिलती है कथा सेल का काम करती है इसलिए हमें भूलना नहीं चाहिए और हमें राम कथा श्रीमद् भागवत भागवत कथा सुनना चाहिए रामचरितमानस में भगवान राम पूरे समाए हुए हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

"scn news india"copyright'-2007-2020-(स्वामित्व/संपादक-राजेंद्र वंत्रप, चैनल हेड-हर्षिता वंत्रप,Registerd MP08D0011464 /63122/ 2019 /WEB)   'scnnewsindia@gmail.com