चना एवं सरसों में समन्वित कीट प्रबंधन के लिए किसानों को सलाह

Scn news india

मनोहर

भोपाल- इस समय चना फसल खेतों में अपनी वनस्पतिक अवस्था से निकलकर फूल तथा फली वाली अवस्था में प्रवेश कर रही है। कीट प्रबन्धन की दृष्टि से देखा जाये तो वर्तमान में चना तथा सरसों फसल में कीट का प्रकोप देखा जा रहा है तथा चने में कटुआ इल्ली का प्रकोप शुरूआत अवस्था में है। इसके समन्वित नियंत्रण के लिए कृषि महाविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा किसान भाइयों को खेत में टी आकार की 25 खुटियाँ प्रति एकड़ के हिसाब से फसल से 8-10 से.मी. ऊँची लगाने की सलाह दी गई है । रासायनिक नियन्त्रण के लिए प्रोफेनोफास 50 ईसी को 2 मि.ली. प्रति लीटर पानी के हिसाब से छिड़काव करने की सलाह दी गई है। सरसों में माहू के प्रकोप से नियंत्रण हेतु डायमेथोएट 30 ईसी 1 मि.ली.प्रति लीटर पानी की दर से छिड़काव करने पर नियत्रंण हो जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.