scn news indiaछिंदवाड़ा

छात्रावास में कक्षा 11 वी के छात्र की मौत का मामला -अधीक्षक निलंबित

Scn news india

विशाल भौरासे की रिपोर्ट

छिंदवाड़ा के हर्रई विकास खंड के परतापूर की घटना के बाद विकाश खंड अमरवाड़ा के सोनपुर सिनियर बालक छात्रवास में छात्र की मौत से क्षेत्र में फैली शन सनी पुलिस जांच में जुटी सहायक आयुक्त ने अधिक्षीका को किया निलंबित खबर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के गृह जिले से है बता दे की जनजातीय विभाग छिन्दवाड़ा के हर्रई ब्लाक के परतापुरा छात्रवास में छात्र पर धार धार हथियार से अज्ञात व्यक्ति दौरा किए गए जानलेवा हमले की गुत्थी अभी सुलझी ही नहीं थी की अमरवाड़ा ब्लाक के ग्राम सोनपुर के सीनियर बालक छात्रावास में बीते शनिवार कक्षा 11 वी के एक छात्र की मौत का मामला सामने आ गया। मामले की गंभीरता को देखते हुए सहायक आयुक्त सत्येंद्र मरकाम ने अधीक्षक को निलंबित कर “जांच” के आदेश दिए हैं।


छात्र नही उठा तब अन्य छात्रों ने देखा
जानकारी के अनुसार सीनियर बालक छात्रावास सोनपुर में रहने वाले कक्षा 11 वी के छात्र ओम प्रकाश पिता रमेश मर्सकोले शनिवार को सुबह उठा नही तब अन्य छात्रों ने उसे देखा और स्टाफ को खबर की। स्टाफ ने छात्र को उपचार के लिए ” अमरवाड़ा” चिकित्साल्य लाया था। चिकित्सा में उपचार के बाद चिकित्सक ने छात्र को “मृत” घोषित कर दिया। छात्र ने हाल ही में तिमाही परीक्षा दी थी।

शुक्रवार को उसकी तबियत खराब थी लेकिन अधीक्षक ने उसका कोई उपचार नहीं कराया। सुबह जब युवक गंभीर स्थिति में मिला जब शनिवार की सुबह उसे “छात्रावास” से अस्पताल ले जाया गया। सूत्रों की माने तो स्थिति बिगड़ ने के बाद छात्र को आनन फानन में अमरवाड़ा लाया गया था लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। वंही बीएमओ डॉ. करुष ठाकुर का कहना था कि सोनपुर छात्रावास के छात्र को इलाज के लिए अमरवाड़ा अस्पताल लाया गया था, लेकिन उसकी पहले ही मृत्यु हो चुकी थी। शव का पोस्टमार्टम कराया है। रिपोर्ट मिलने पर ही मौत की वजह का पता चल सकेगा। साथ ही छात्र की मौत की जानकारी मिलते ही अमरवाड़ा पुलिस भी मौके पर पहुंची थी पुलिस दौरा शव का पोस्टमार्टम करवा कर शव परिजन को सौंप दिया गया था। और मर्ग कायम कर जांच भी शुरू कर दी गई थी।

घटना से खुली जनजाति कार्य विभाग के छात्रवास संचालन की पोल इस घटना से एक बार फिर “जनजत्तीय” कार्य विभाग छिंदवाड़ा जिले के आदिवासी ब्लाक में संचालित “छात्रावास” के संचालन की पोल खोल कर रख दी है। छात्र की मौत की खबर दिल दहला देने वाली है। घटना की सूचना पर जिला अधिकारी भी अमरवाड़ा आए। ईसके बाद अधिकारियो की टिम सोनपुर छात्रावास भी पहुची। छात्रावास में अन्य छात्र बीमार तो नही है इसकी भी गंभीरता से जांच की लेकिन प्राथमिक जांच मे पाया गया कि छात्रावास में रहने वाले छात्रों का इस सत्र में अब तक एक बार भी “स्वास्थ्य परीक्षण” नही कराया गया था। अधीक्षक” सविता तिवारी छात्रावास में नहीं करती थी निवास इतना ही नही छात्रों ने बताया कि ” अधीक्षक” सविता तिवारी छात्रावास में निवास भी नही करती है।

छात्रावास के संचालन के साथ ही पद के दायित्व निर्वहन में भारी लापरवाही सामने आई थी। जिसके चलते विभाग के “सहायक आयुक्त” सत्येंद्र मरकाम ने तत्काल ही ” अधीक्षीका” सविता तिवारी को सिविल सेवा अधीनियम से “निलंबित कर दिया है। निलंबित अधीक्षीका को जुन्नारदेव बी ई ओ कार्यालय अटैच किया गया है। छात्र की मौत की जांच के आदेश के साथ ही उन्होंने छात्र के पिता को 25 हजार की सहायता राशि का चेक दिया है। यह छात्र बटका गांव का निवासी था छात्रावास में रहकर पढ़ाई कर रहा था। हर्रई के एकलव्य आवासीय विद्यालय के अधिक्षक भी छिंदवाड़ा से प्रति दिन करते हैं आना जाना सूत्रसे प्राप्त जानकारी के अनुशार एक्लव्य आवासीय विध्यालय हर्रई के प्रभारीअधिक्षक प्रकाश कालम्बे भी छिंदवाड़ा से प्रति दिन आना जाना करते हैं। जब की नियम के अनुसार छात्रावास में ही अधिक्षक को एक क्वाटर स्विकृत हुई है। परन्तु दुर्भाग्य पुर्ण बात यह है की क्वाटर का सालो से ताला तक नहीं खुला है।

अब सवाल यह है की लगातर इस प्रकार की घटनाओ के घटने के बाद भी अधिकारी इस ओर गंभीरता क्यों नहीं दिखा रहे। लगातर घट रही घटना से यह भी अनुमान लगाया जा सकता है की अधिकारी इस तरफ कितनी गभीरता दिखा रहे।१) आखिर कार छात्रा वाशो में ही क्यों इस प्रकार के मामले लगातार सामने आ रहे। २)क्या जिले के छात्रवासो में बच्चो के भविष्य से खिलवाड़ किया जा रहा है। हमे एक रिकार्डिंग भी प्राप्त हुआ है हमारा चैनल रिकॉर्डिंग की पुष्टि नहीं करता । रिकॉर्डिंग में छात्रवासो से प्रतिमाह 5000रू वसूलने की बात कही जा रही है।

वायरल ऑडियो