दुर्गंध से परेशान है रहवासी, नगर का पूरा कचरा और मवेशी पटके जाते हैं द्रोणागिरी मार्ग पर, बीमारी का शिकार हो रहे रहवासी और राहगीर

Scn news india

प्रद्युमन फौजदार
बडामलहरा/ नगर के द्वारा तिराहा से 1 किलोमीटर दूर मेन रोड पर बड़े-बड़े कचरे के ढेर और मरे हुए मवेशी पटकने से सड़क किनारे के रहवासी और राहगीर न सिर्फ दुर्गंध और सड़ांध से परेशान हैं बल्कि बीमारियों में जकड़ते जा रहे हैं लेकिन इस और संबंधित विभाग और जिम्मेदार आला अफसरों का जरा भी ध्यान नहीं है इस संबंध में मोहल्ले वासियों ने आधा सैकड़ा से अधिक लोगों के हस्ताक्षर युक्त आवेदन एसडीएम को दिया जिस पर नगर परिषद के प्रशासक और एसडीएम ने महज सीएमओ को अग्रेषित कर अपना पल्ला झाड़ लिया।

गौरतलब है कि घुवारा रोड पर मॉर्निंग वॉक पर जाने वाले लोगों ने दुर्गंध और सड़ांध के चलते जाना बंद कर दिया है इसके अलावा द्रोणागिरी सेंधपा जैन तीर्थ स्थल होने के कारण आए दिन ना सिर्फ श्रद्धालुओं का आना जाना लगा रहता है बल्कि साधु संतों का भी आगमन होता रहता है लेकिन कचरे के ढेरों और मरे पड़े पशुओं की दुर्गंध से खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है इस संबंध में शहर सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के दौरान अक्टूबर माह में इस रोड पर निवासरत लोगों ने लिखित शिकायत आवेदन भी नगर परिषद को दिया था मगर इस ओर जिम्मेदार अधिकारियों ने ध्यान नहीं दिया। नगर परिषद के मुताबिक एसडीएम द्वारा कचरा पटकने के लिए महाराजगंज रोड पर भूमि आवंटित की गई है।

लेकिन कब्जा आज तक नहीं दिलाया जिससे मजबूरीवश नगर परिषद को जैन तीर्थ स्थल पहुंच मार्ग पर कचरे के ढेर और मवेशी पटकने पड़ रहे हैं उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों भारत की सैर पर निकले इटली देश के पर्यटकों ने बड़ामलहरा में गंदगी देखकर सबसे गंदा शहर बताया था घुवारा रोड पर निवासरत जीपी कुशवाहा, आसाराम कुशवाहा, धनेश सोनी,भरत सोनी ,भगवान दास कुशवाहा ,बृजेश सोनी ,रमेश असाटी, जेपी रजक, बाबू सिंह,बाबू लाल यादव, पप्पू यादव, राहुल सिंह नईक सहित तकरीबन 62 लोगों ने आज एसडीएम एनआर गौंड़ को गंदगी के ढेर और मृत पशु हटवाने के लिए आज शुक्रवार को आवेदन दिया लेकिन एसडीएम ने आवेदन नगर परिषद के सीएमओ की तरफ अग्रेषित कर पल्ला झाड़ लिया।इस सम्बंध में मुहल्ले वासियों ने सीएम हेल्पलाइन में भी शिकायत दर्ज करायी है।
* नहीं मिला कब्जा*
“नगर के वार्ड क्रमांक 8 में नगर का सारा कचरा डालने के लिए राजस्व विभाग द्वारा जमीन तो आवंटित कर दी गई मगर एसडीएम आज तक कब्जा नहीं दिला पाए जिससे मजबूरी में द्रोणागिरी पहुंच मार्ग पर कचरा डलवाना पड़ रहा है कचरा डलवाने के चक्कर में नगर परिषद के स्वच्छता अभियान में 1500 नंबर कम हो गए है”
प्रदीप रिछारिया मुख्य नगरपालिका अधिकारी बड़ामलहरा
काहे की कार्यवाही
“इसमें काहे की कार्यवाही वार्ड वासियों ने मुझे आज ही आवेदन दिया है।मैंने नगर परिषद को भेज दिया है।रही बात जमीन आबंटन की तो चेक करा लेंगे इसके बाद बता पाएंगे कहां जमीन है”
एनआर गौंड़
एसडीएम
बड़ा मलहरा

Leave a Reply

Your email address will not be published.