अल्ट्राटेक और एसीसी जैसी नामी सीमेंट कंपनी के नाम से बना रहा था सीमेंट, क्राइम ब्रांच का छापा,संचालक भगा

Scn news india

मनोहर

भोपाल- राजधानी में नकली सामान बनाने वालों की कमी नहीं है।  खाने के सामान हो या फिर उपयोग की वस्तुएं मिलावट खोरों ने कोई जगह नहीं छोड़ी , कमलनाथ सरकार की शुद्ध के लिए युद्ध मुहिम में आये दिन नए नए ऐसे गोरखधंधों की पोल खुल रही है।

हाल ही में गुटका फैक्ट्री के छापे के बाद अब क्राइम ब्रांच ने नकली सीमेंट बनाने वाली फैक्टरी का भंडाफोड़ किया है। जहाँ अल्ट्राटेक और एसीसी जैसी नामी सीमेंट कंपनी के सभी ब्रांड की बोरियों में ये सीमेंट पैक किया जा रहा था। बताया जा रहा है कि ये गोरखधंधा दो साल से चल रहा  था।

वहीँ सरकारी विभाग में भी इस सीमेंट की सप्लाई हो रही थी , ग्राम खजूरी राताताल के सरपंच ने गाँव में हो रहे निर्माण कार्यों में धड़ल्ले से इसका इस्तेमाल कर आरसीसी रोड और नालियां बनवा दीं। मामले में पुलिस ने सरपंच को भी हिरासत में ले लिया है।

खबर लगते ही फैक्टरी संचालक फरार हो गया । पुलिस का अंदाजा है कि इस फैक्टरी से खरीदे गए सीमेंट को और भी कई सरकारी निर्माण में इस्तेमाल किया गया होगा।

मुताबिक की सुचना पर रविवार को क्राइम ब्रांच पुलिस ने ईटखेड़ी स्थित ग्राम परवाखेड़ा में दबिश दी थी। जहाँ किराए के गोदाम में सैकड़ों बोरी सीमेंट, खाली बोरियां, डस्ट और पुराने सीमेंट के डल्ले मिले। मिलावटी सीमेंट एसीसी और अल्ट्राटेक जैसी नामी कंपनियों की बोरियों में भरा जा रहा था।पुलिस की टीम को दबिश में मजदूर तो मिल गए, लेकिन फैक्टरी मालिक कदीर भाग गया ।

संचालक  कदीर ने नईम नामक व्यक्ति का मकान किराए पर लिया था। जहाँ बड़े पैमाने पर क्रेशर की डस्ट मंगवाकर आधा सीमेंट और आधी डस्ट मिलाकर ये सीमेंट बना ब्रांडेड नामी कंपनियों की बोरियों में भरवा कर बेचने का काम करता था । जिसमे पुरानी डल्लेवाली सीमेंट की छनाई कर उसे भी सीमेंट में मिलाया जाता था। और गोदाम में सजा कर रखता था।  इसका प्रयोग अब कहाँ कहाँ हुआ है इसकी जांच की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.