मोहाना सरपंच ने बाबा के सामने खोली अधिकारियों और नेताओं की पोल -कंप्यूटर बाबा ने किया केन नदी व रेत खदानों का औचक निरीक्षण

Scn news india

मोहम्मद आज़ाद ब्यूरों अजयगढ़
अजयगढ़= प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री दर्जा प्राप्त, अध्यक्ष नन्दी न्यास मध्यप्रदेश, महामण्डेश्वर कम्प्यूटर बाबा अपने निर्धारित कार्यक्रम अनुसार 1 फरवरी 2020 को सुबह पन्ना पहुंचे जहां अधिकारियों की बैठक उपरांत अजयगढ़ क्षेत्र की केन नदी और रेत खदानों का निरीक्षण किया आपको बता दें कि कंप्यूटर बाबा के आगमन की खबर से ही केन नदी में ताण्डव मचाने वाली प्रतिबंधित मशीनों को हटा दिया गया था।

इसके अलावा कलेक्टर द्वारा आनन-फानन में ग्राम पंचायतों की रेत खदानों को भी निलंबित कर दिया गया था, इससे पूर्व भी अनियतिता की वजह से कुछ खदानों की ईटीपी बंद की गई थी, कंप्यूटर बाबा भारी लावलश्कर के साथ केन नदी के मोहना तट पर पहुंचे बाबा के साथ खनिज अधिकारी आर.के. पाण्डेय, खनिज इंस्पेक्टर नूतन जैन, अजयगढ़ एसडीएम एस.के. गुप्ता, जनपद सीईओ भागीरथ तिवारी,एसडीओपी इसरार मंसूरी टीआई अरविन्द कुजूर, सहित तमाम प्रशासनिक अधिकारियों सहित कई स्थानीय नेता व जनप्रतिनिधि व भारी पुलिस बल मौजूद रहा, बाबा जी ने मोहाना क्षेत्र के नदी तट पर बृक्षारोपण भी किया।


सरपंच ने खोली खनिज व राजस्व अधिकारी की पोल
इस दौरान ग्राम पंचायत मोहाना के सरपंच मुन्ना यादव ने कंप्यूटर बाबा के सामने खनिज अधिकारी आर.के. पाण्डेय, खनिज इंस्पेक्टर नूतन जैन, अजयगढ़ एसडीएम एस.के. गुप्ता एवं अन्य अधिकारियों की पोल खोलते हुए बताया कि रेत माफिया को संरक्षण देकर खुलेआम अवैध उत्खनन करवाया जाता है। और रेत माफिया को पार्टनर करने के लिए सरपंचों पर दबाव बनाया जाता है। कुल मिलाकर ग्राम पंचायतों के नाम पर अधिकारियों द्वारा ही माफिया से मिल कर रेत के अवैध उत्खनन के आरोप लगाए गए हैं। अधिकारियों और रेत माफिया की बात नहीं मानने पर नियम का उलंघन बताकर ईटीपी बंद करने की धमकी दी जाती है। आगे बताया कि बाबा जी के आने के एक दिन पूर्व तक केन नदी के कई घाटों में प्रतिबंधित मशीनों से नदी की धारा को रोक कर रेत का अवैध उत्खनन किया जा रहा था।


जगह-जगह मिले अवैध डम्प व खड़ी मशीने
बाबा के भ्रमण के दौरान नदी मार्ग में जगह-जगह रेत के अवैध डम्प, और नदी के पास खड़ी प्रतिबंधित मशीने व डम्फर रेत माफिया और अधिकारियों की मिली भगत की पोल खोल रहे थे, रेत माफिया को संरक्षण देने वाले अधिकारी अपनी चिकनी चुपड़ी बातों से बाबा का ध्यान नदी के घाटों से हटाते देखे गए। मोहाना खदान का निरीक्षण कर बाबा एवं अधिकारियों ने अजयगढ़ रेस्ट हाउस में सुल्पाहार किया और रामनई में रेत खदानों का निरीक्षण करने निकल गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.