सिद्ध स्थल लमटी हनुमान मंदिर प्रांगण में श्रीराम-जानकी महायज्ञ एवं श्रीराम कथा 24 अप्रैल से

Scn news india

अनुराग मिश्रा जिला ब्यूरो 

  • 33 कोटि देवताओं का होगा आव्हान
  •  24 अप्रैल को निकलेगी कलश यात्रा
शाहपुर। सिद्ध स्थल लमटी हनुमान मंदिर प्रांगण में आगामी 24 अप्रैल दिन- सोमवार से 30 अप्रैल रविवार तक सात दिवसीय आयोजित होने वाले पांच कुंडीय श्री राम जानकी महायज्ञ की तैयारियां मंदिर प्रांगण में शुरू हो चुकी हैं। बजरंग मंदिर के पुजारी पंडित अजय परसाई के अनुसार चौबीस अप्रैल से तीस अप्रैल तक बजरंग दादा लमटी दरबार में पांच कुंडीय श्री राम जानकी महायज्ञ एवं श्रीराम कथा का आयोजन किया जाएगा।
यज्ञ शाला का हो रहा निर्माण
इस महायज्ञ के लिए भव्य यज्ञशाला का निर्माण कार्य मंदिर प्रांगण में प्रारंभ है। अभी वर्तमान में ऊपर का ढांचा बनाया गया है जिसमे कांस घास को लगाना शेष है। यज्ञशाला में मिट्टी से बने तीन मेखला वाले हवन कुंड बनाये जाएंगे। इनमें सबसे ऊपर की सफेद रंग की मेखला में सृष्टि के रचयिता भगवान ब्रह्मा जी और दूसरी लाल रंग की मेखला में जगत के पालनहार विष्णु जी तथा तीसरी काले रंग की मेखला में देवों के देव महादेव भोलेनाथ भगवान आशुतोष का वास होता है। यज्ञशाला चार वर्गों में विभाजित की जाएगी, जिनमें चारों ओर जौ बोये जाएंगे और केलों के पत्तों से पुष्प सुसज्जित किये जाएंगे।
33 कोटि देवताओं का होगा आव्हान
यज्ञशाला के सामने वेद मंच स्थल बनाया जाएगा और यज्ञशाला तथा वेद मंच के मध्य सर्वतोभद्र वेदिका पूजन मंच बनाया जाएगा जहां पर 33 कोटि देवी देवताओं का पूजन और आवाहन होगा। कलशों को पीले रंग से रंग कर उन पर स्वास्तिक और ओम के चिह्न बनाये जाएंगे। आम के पत्ती एवं नारियल से सुसज्जित कलशों को पीले वस्त्रधारी महिलाएं चौबीस अप्रैल को कलश यात्रा निकाली जाएगी। यज्ञ के साथ साथ चौबीस अप्रैल से मंदिर प्रांगण में श्री राम कथा का वाचन विश्व विख्यात साध्वी रंजना दीदी महाराज के द्वारा श्रवण कराई जाएगी। कथा का समय दोपहर एक बजे से चार बजे प्रतिदिन रखा गया है। पंडित अजय परसाई ने हनुमान जी के अनुयाइयों से इस पुण्य कार्य में सहभागी बनने की अपील की है।