सारणी में मंडल की भूमि पर सुरक्षित नहीं मंडल के आवास

Scn news india

ब्यूरो रिपोर्ट 

  • सारणी में मंडल की भूमि पर सुरक्षित नहीं मंडल के आवास
  • रिटायरमेंट के बाद ग्रेजुएटी नहीं मिलने के कारण कर्मचारियों द्वारा 3 महीने में ही रिक्त कर दिए जाते हैं आवास
  • श्रमिक संगठनों द्वारा कई बार रिटायरमेंट के बाद ग्रेजुएटी रिलीज करने की उठ चुकी है मांग

मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी लिमिटेड सारणी में कर्मचारियों के रिटायर होने के पश्चात आवास को रिक्त कर दिया जाता है
रिक्त होने से दूसरे अन्य कर्मचारी को आवंटित होने के मध्य ही चोरों द्वारा कर्मचारियों के आवास को निशाना बना दिया जाता है
वार्ड क्रमांक 6 मुख्य बाजार मार्ग पर स्थित आवास क्रमांक o.e 96 सुरक्षा विभाग के सुरक्षाकर्मी कमलेश कहार को कुछ ही दिनों पहले आवंटित हुआ आवंटन होने के पश्चात कमलेश द्वारा मकान में रंग रोगन का कार्य किया गया और पिछली दरमियानी रात को चोरों द्वारा मकान के सारे खिड़कियों के राड एवं खिड़कियां चोरों द्वारा निकाल लिए गए।


लोहे की इन राडो की कीमत लगभग 2000 होगी परंतु सिर्फ इसके लिए लाखों रुपए के मंडल के बेशकीमती आवास को निशाना बनाकर खंडहर कर दिया गया सारणी क्षेत्र में सुरक्षा की तीन एजेंसियां पुलिस विभाग, सुरक्षा विभाग और औद्योगिक सुरक्षा बल तैनात होने के बावजूद भी चोरों का नगर के मध्य में मुख्य मार्ग पर स्थित आवास की
खिड़की से लोहे के एंगल चोरों द्वारा ले जाने में बड़ी जांच का विषय है।


वहीं वार्ड क्रमांक 6 में ही अघोषित रूप से कबाड़ खाने संचालित किए जा रहे हैं जिसके कारण चोरों के हौसले बुलंद है प्रशासन को चाहिए कि तीनों सुरक्षा एजेंसियां एक साथ होकर कार्रवाई करे तो निश्चित ही आवासों की खिड़की और दरवाजे चोरी होने की घटनाओं पर अंकुश लगाया जा सकता है।

क्या है इनका कहना

सिविल विभाग द्वारा मुझे अगर फिर से खिड़की दरवाजे दिए जाएंगे तो मैं उस आवास में रहने जाऊंगा नहीं तो उस आवाज में नहीं रह सकूंगा
कमलेश कहार, सुरक्षाकर्मी
जिसे आवास आवंटित हुआ

इनका है कहना
नगर में तैनात सुरक्षा की तीनों एजेंसियों को मिलकर चोरी की समस्या का स्थाई हल निकालना चाहिए
अरविंद सोनी, अध्यक्ष
सतपुड़ा व्यापारी संघ