विशेष – कलेक्टर की सादगी, अधिकारी हो तो ऐसे

Scn news india

संपादक एससीएन न्यूज इन्डिया 

बैतूल – पुरे जिले में 26 जनवरी गणतंत्र दिवस समारोह हर्षोल्लास के साथ मनाया गया , ध्वजारोहण के पश्चात् सांस्कृतिक कार्यक्रमों में क्या बच्चे, क्या जवान , क्या वृद्ध सभी ने अखंड भारत के 71 वें गणतंत्र दिवस को झूम कर मनाया , और तो और इस अवसर पर कई अविस्मरणीय तस्वीरें भी नजर आई ,जो मस्तिष्क पटल पर सदा के लिए अंकित हो गई , तो कही आदिवासी क्षेत्र के विधायक की अपने संस्कृति के प्रति समर्पण ,आदर व् सद्भाव नजर आया ,जहाँ पांरपरिक लोकगीत के रंग में रंगे उनके लोकनृत्य ने मन को मोह लिया।

इन्ही अवसरों व् आयोजनों में एक तस्वीर हट कर सामने नजर आई , जिसकी चर्चा के बिना शायद ये विश्लेषण अधूरा रह जाता , और वह है जिले  के युवा कलेक्टर तेजस्वी एस . नायक की सादगी –

तारीफ़ सिर्फ इस लिए नहीं की वे कलेक्टर है , तारीफ़ इस लिए की उनके द्वारा एक साथ दो अनुपम उदाहरण प्रस्तुत किये गए।  पहला एक अधिकारी होने के नाते पद की गरिमानुरूप परिधान की शालीनता और दूसरा इस परिधान में भी भारतीय संस्कृति व् भारतीय सभ्यता का निर्वहन ।

जमीन पर बैठ  भोजन की थाली को गोद में रख कर  अन्न का सम्मान पूर्वक ग्रहण करना , आधुनिकता की होड़ में डूबती  नव पीढ़ी को सिखने के लिए एक बड़ा सबक है। और यही सादगी मन को भा गई।

बता दे कि  गणतंत्र दिवस के अवसर पर मध्यान्ह भोजन योजनांतर्गत शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय डूडा बोरगांव में विशेष भोज  का आयोजन किया गया था।  जिस में विधायक श्री निलय डागा, कलेक्टर श्री तेजस्वी एस. नायक, पुलिस अधीक्षक श्री कार्तिकेयन के., अपर कलेक्टर श्री साकेत मालवीय, सीईओ जिला पंचायत श्री एमएल त्यागी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री रामस्नेही मिश्र सहित सभी जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों ने बच्चों के साथ बैठकर भोजन किया था ।

Image result for बैतूल कलेक्टर तेजस्वी नायक ne धोई thali

ये कोई पहला अवसर नहीं था की कलेक्टर तेजस्वी नायक ने इस तरह सादगी का परिचय दिया हो , ये शालीनता उनके व्यवहार में शामिल है इससे पहले भी एक स्कूल में उन्होंने मध्यान् भोजन के बाद खुद अपनी प्लेट नल  पर ले जा कर धोई थी।

Image result for बैतूल कलेक्टर तेजस्वी नायक खाट पर

वही जनसम्पर्क कार्यक्रम के दौरान  आदिवासी ग्राम में गरीब की झोपड़ी में खाट पर बैठ जनसुनवाई की थी और अधिकारियों को तत्काल पीड़ितों के सहायतार्थ कारवाही करने के निर्देश दिए थे।

जिनके व्यक्तित्व से ये जाहिर होता है कि नाम से बड़ा काम होता है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.