ग्राम पिपरिया में ग्रामसभा करा रहे शिक्षक की हार्ट अटैक से मौत

Scn news india

धनराज साहू ब्यूरो रिपोर्ट

ग्राम पिपरिया में ग्रामसभा करा रहे शिक्षक की हार्ट अटैक से मौत

अनुपस्थित नोडल अधिकारी के स्थान पर मौखिक रूप से लगाई गई थी शिक्षक की ड्यूटी

 

मध्यप्रदेश शासन द्वारा हाल ही में बनाए गए पेसा एक्ट की आमजन को जानकारी देने एवं क्रियान्वयन के संबंध में प्रशासन की ओर से विशेष ग्राम सभाओं का आयोजन किया गया था। जिसके अंतर्गत जनपद पंचायत भैंसदेही की ग्राम पंचायत पिपरिया में शनिवार को आयोजित विशेष ग्रामसभा में सीएसी के मौखिक आदेश पर नोडल अधिकारी के रूप में मौजूद शिक्षक भगवंतराव उईके (52 वर्ष) की हार्टअटैक से मृत्यु हो चुकी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार पूर्व में ड्यूटी से अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित प्राथमिक शाला सिरजगांव के सहायक अध्यापक दुर्गेश भालेकर को ग्राम पंचायत पिपरिया में ग्राम सभा आयोजन के लिए नोडल अधिकारी बनाया गया था। उक्त शिक्षक के नोडल अधिकारियों की ट्रेनिंग में शामिल नहीं होने से आनन-फानन में बीआरसीसी के निर्देश पर सीएससी ने प्राथमिक शाला सिरजगांव के सहायक शिक्षक भगवंतराव उईके को मौखिक रूप से नोडल अधिकारी के रूप में पिपरिया पंचायत की ग्राम सभा में पहुंचने के आदेश दिए थे। ग्राम सभा की कार्यवाही संपन्न कराने पिपरिया पंहुचे शिक्षक श्री उईके की ड्यूटी के दौरान अचानक तबीयत बिगड़ गई जिस पर उन्हें तत्काल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भैंसदेही में भर्ती कराया गया। जहां इलाज के दौरान उनका दुखद निधन हो गया। उनके दुखद निधन से पूरे इलाके में शोक व्याप्त है। इस घटना के बाद ग्राम पंचायत पिपरिया में ग्रामसभा स्थगित करने की खबर है हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की हो पाई है।

पहले 17 नवंबर से अनुपस्थित शिक्षकों को बनाया गया था नोडल अधिकारी
———————–

पेसा एक्ट के क्रियान्वयन के लिए बैतूल जिले के 6 ब्लाकों के सभी ग्रामों में विशेष ग्राम सभाओं के आयोजन के लिए जिला प्रशासन ने प्रत्येक ग्राम सभा के लिए नोडल अधिकारियों की तैनाती की थी। प्राप्त जानकारी के अनुसार जनपद पंचायत भैंसदेही कि ग्राम पंचायत पिपरिया में ग्राम सभा आयोजन के लिए प्राथमिक शाला सिरजगांव के सहायक शिक्षक दुर्गेश भालेकर को नोडल अधिकारी बनाया गया था। जबकि भैंसदेही बीआरसीसी बलराम नरवरे के मुताबिक उक्त शिक्षक 17 नवंबर से ही शाला से अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित था। जो 25 नवंबर को आयोजित नोडल अधिकारियों की ट्रेनिंग में भी शामिल नहीं हुआ था। वह पिपरिया में ग्रामसभा लेने भी नहीं पहुंचा था। इसी बीच भैंसदेही एसडीएम रीता डेहरिया ने ग्राम पंचायत पिपरिया पहुंचकर ग्राम सभा का निरीक्षण किया तथा वहां नोडल अधिकारी की अनुपस्थिति की जानकारी मिलने पर एसडीएम ने बीईओं जीसी सिंह को कॉल कर पिपरिया में ग्राम सभा हेतु ट्रेनिंगशुदा नोडल अधिकारी की अनुपस्थिति व व्यवस्था के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए थे। प्राप्त जानकारी के अनुसार बीआरसीसी के निर्देश पर सीएससी दिलीप वाड़ीवा ने तत्काल व्यवस्था बनाने हेतु सिरजगांव में पदस्थ प्राथमिक शाला के सहायक शिक्षक भगवंतराव उईके को ग्राम पिपरिया में ग्राम सभा आयोजित कराने के लिए नोडल अधिकारी के रूप में उपस्थिति के मौखिक निर्देश दिए थे। जिसके बाद सीएससी के मौखिक निर्देश पर सहायक शिक्षक श्री उईके ग्राम सभा की कार्यवाही संपन्न कराने ग्राम पंचायत पिपरिया गए हुए थे जहां ग्राम सभा में ड्यूटी के दौरान उनकी अचानक तबीयत बिगड़ने पर सरपंच ,सचिव व ग्रामीणों के द्वारा उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भैंसदेही ले जाया गया किंतु वहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलते ही एसडीएम रीता डेहरिया, बीईओं जीसी सिंह व अन्य अधिकारी भी अस्पताल पहुंच चुके थे। शिक्षक भगवंतराव उईके के आकस्मिक निधन से पूरे क्षेत्र में शोक की लहर है।