आवारा कुत्तों का आतंक

Scn news india

ओमकार पटेल 

एक गाय माता पूरी तरह से हष्ट पुष्ट दिख रही थी लेकिन लोगों को मारने को दोड रही थी गो पुत्र दिलीप चंद्रोल ने जाकर गाय को देखा गाय मुंह से झाग फेंक रही थी कुछ ही देर में गाय उठती और फिर बैठ जाती उठती ओर फिर बैठ जाती यह सिलसिला लगातार चलता रहा हालांकि देखकर इसके लक्षण रेबीज के लग रहे थे बहुत से केसो में अभी तक ऐसा ही हुआ है कि गाय माता कि रेबीज के कारण में अधिकांश 24 घंटे के अंदर मृत्यु हो जाती है इस केस में भी ऐसा ही हुआ डॉक्टर की टीम भी बुलाई गई डॉक्टर की टीम ने पुष्टि की यह रेबीज के लक्षण है अतः गाय माता ने रात 9:30 अपने दम तोड़ दिया सुबह माहिष्मती गौ सेवा रक्तदान संगठन की टीम ने गाय माता का हिंदू रीति रिवाज के साथ अंतिम संस्कार किया जेसीबी मशीन सीवर लाइन मैं काम चल रहे ठेकेदार के अधिकारी कौशिक जी से मदद ली गई आज के गाय माता के अंतिम संस्कार में गो पुत्र दिलीप चंद्रोल के साथ सहयोगी रहे हिमांशु भारतीया, अनिकेत पटेल ,विजय बैरागी ,अमन निखर, वैभव निखर