ऊर्जा विभाग में अनुकंपा नियुक्ति पाने के लिए भारतीय मजदूर संघ के माध्यम से मुख्यमंत्री जी के नाम से ज्ञापन सौंपा 

Scn news india

ब्यूरो रिपोर्ट

मध्य प्रदेश विद्युत मंडल में अनुकंपा नियुक्ति पाने के लिए, लगभग 22 वर्षों से प्रयासरत आश्रितों ने, पावर जेनरेटिंग कंपनी लिमिटेड सारणी के मुख्य अभियंता वी के कैथवार के माध्यम से, मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा गया, मुख्य अभियंता से भेंट कर चर्चा में अनुकंपा नियुक्ति संघर्ष संगठन के सचिव निराकार सागर ने कहा कि, प्रतिबंध दिनांक सन 2000 के पूर्व मे समय सीमा पर आवेदन किए हुए, बालिक एवं नाबालिक आवेदन प्रकरणों को छोड़ दिया गया है, जबकि उन प्रकरणों के लिए 1997 का नियम आज भी प्रभाव सील है, पूर्व के आश्रितों के साथ अन्याय करते हुए, द्वेष पूर्ण नीति बनाकर सन 2000 से 2012 के बीच, कार्य करते समय दुर्घटना दिवंगत प्रकरणों के आवेदनों पर, दुर्घटना अनुकंपा नियुक्ति की नीति लागू की गई है, एवं वर्तमान मे 2012 से लेकर आज दिनांक तक, सामान्य एवं दुर्घटना प्रकरणों पर अनुकंपा नियुक्ति दी जा रही है, जबकि दिवंगत कर्मचारियों के दिवंगत दिनांक के, वरिष्ठता सूची के आधार पर, प्रदेश के अन्य विभागों की तरह बिना शर्त अनुकंपा नियुक्ति प्रदान करना चाहिए, क्योंकि जो कर्मचारी अपना खून पसीना बहाकर, विद्युत पैदा करके,मध्य प्रदेश और अन्य राज्यों में, उजाला फैलाते हुए, दिवंगत हो गए, आज उन्हीं के घर में अंधेरा छाया हुआ है, क्योंकि उजाला फैलाने वाले दिवंगत कर्मचारियों के मौतों में बंटवारा कर दिया गया है, इस विषय को लेकर आमला सारणी क्षेत्र के विधायक, माननीय योगेश पंडाग्रे के माध्यम से, मुख्यमंत्री के नाम, सन 2000 के पूर्व से लेकर, 2012 के बीच के प्रकरणों पर,प्रदेश के अन्य विभागों की तरह बिना शर्त अनुकंपा नियुक्ति, लागू करवाने के लिए, शीघ्र ही आश्रितों के माध्यम से ज्ञापन सौंपा जाएगा। ज्ञापन सौंपने वाले आश्रित, तोप सिंह, रमेश हारोड़े, रामशंकर कहार, दीपक डेहरिया, मोहित कड़वे, परसराम पंडाग्रे, देवेंद्र बरगढ़, आशीष उघड़े, उपस्थित थे।