जिले के जंगल में घूम रहा है बाघ,लोकेशन धाराखोह के जंगल में

Scn news india
फाइल फोटो

राजेश साबले जिला ब्यरो 

जिले के जंगल में घूम रहा है बाघ
बाघ की लोकेशन धाराखोह के जंगल में मिल रही है
वन विभाग ग्रामीणों को कर रहा है अलर्ट

बाघ बैतूल जिला मुख्यालय से सटे जंगल में घूम रहा है। बाघ की मौजूदगी से गांव के लोग दहशत में है। वन विभाग द्वारा गांव में मुनादी कर ग्रामीणों को अलर्ट कर रहे है। वन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक बाघ की निगरानी के लिए जंगल में लगभग 20 कैमरे अलग-अलग स्थानों पर लगाए गए है। बाघ की लोकेशन धाराखोह के जंगल में है। जंगल में चहलकदमी करते हुए बाघ की तस्वीर कैमरे में कैद हुई है। वन विभाग की टीम बाघ की मूवमेंट पर नजर बनाए हुए है। अभी कुछ दिन तक बाघ जामठी के जंगल में मौजूद था, लेकिन अब लोकेशन धाराखोह के जंगल में बताई जा रही है। बाघ ने अब तक कई मवेशियों का शिकार किया है। वन विभाग की टीम ने गांव में मुनादी कर ग्रामीणों को रात के समय अकेले घर से निकलने से मना किया है, साथ ही मवेशियों को घर के भीतर बांधने के लिए कहा गया है। खुले में बाघ मवेशियों पर भी हमला कर सकता है। पिछले तीन-चार दिनों से बाघ की मौजूदगी के चलते ग्रामीण डरे सहमे है। दिन में भी ग्रामीण जब भी बाहर निकलते बाघ का डर सताते रहता है। वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि बाघ की मूवमेंट जामठी और धाराखोह के जंगल में बनी रहती है। कुछ दिन तक बनी रहने के बाद बाघ घने जंगल में चला जाता। जामठी, उड़दन, धाराखोह के ग्रामीणों को बाघ से सावधान रहने के लिए कहा गया है। जानकारी के मुताबिक बाग की मौजूद कि रविवार को भी धारा को के जंगल में ही मिली है।तीन-चार दिन से बाघ बैतूल जिला मुख्यालय से सटे जंगल में घूम रहा है। बाघ की मौजूदगी से गांव के लोग दहशत में है। वन विभाग द्वारा गांव में मुनादी कर ग्रामीणों को अलर्ट कर रहे है। वन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक बाघ की निगरानी के लिए जंगल में लगभग 20 कैमरे अलग-अलग स्थानों पर लगाए गए है। बाघ की लोकेशन धाराखोह के जंगल में है। जंगल में चहलकदमी करते हुए बाघ की तस्वीर कैमरे में कैद हुई है। वन विभाग की टीम बाघ की मूवमेंट पर नजर बनाए हुए है। अभी कुछ दिन तक बाघ जामठी के जंगल में मौजूद था, लेकिन अब लोकेशन धाराखोह के जंगल में बताई जा रही है। बाघ ने अब तक कई मवेशियों का शिकार किया है। वन विभाग की टीम ने गांव में मुनादी कर ग्रामीणों को रात के समय अकेले घर से निकलने से मना किया है, साथ ही मवेशियों को घर के भीतर बांधने के लिए कहा गया है। खुले में बाघ मवेशियों पर भी हमला कर सकता है। पिछले तीन-चार दिनों से बाघ की मौजूदगी के चलते ग्रामीण डरे सहमे है। दिन में भी ग्रामीण जब भी बाहर निकलते बाघ का डर सताते रहता है। वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि बाघ की मूवमेंट जामठी और धाराखोह के जंगल में बनी रहती है। कुछ दिन तक बनी रहने के बाद बाघ घने जंगल में चला जाता। जामठी, उड़दन, धाराखोह के ग्रामीणों को बाघ से सावधान रहने के लिए कहा गया है। जानकारी के मुताबिक बाग की मौजूद कि रविवार को भी धारा को के जंगल में ही मिली है।