उत्‍तरी हवाओं ने बढाई सिहरन, भोपाल में सीजन की सबसे सर्द रात, 13.2 डिग्री पर पहुंचा पारा

Scn news india
मौसम विभाग के मुताबिक मंगलवार को पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत से आगे बढ़ जाने की संभावना है। इस वजह से मध्य प्रदेश में रात के तापमान में गिरावट का सिलसिला जारी रहेगा। मंगलवार को प्रदेश में सबसे तापमान 08 डिग्री सेल्सियस मलाजखंड में दर्ज किया गया।
भोपाल । वर्तमान में एक पश्चिमी विक्षोभ पाकिस्तान एवं उससे लगे जम्मू-कश्मीर पर बना हुआ है। पाकिस्तान के मध्य में एक प्रेरित चक्रवात भी बना हुआ है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक पाकिस्तान के पास बना पश्चिमी विक्षोभ कमजोर हो गया है। इस वजह से उसका विशेष प्रभाव मध्य प्रदेश के मौसम पर नहीं पड़ रहा है। मंगलवार को पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत से आगे बढ़ जाने की भी संभावना है। इस वजह से मध्य प्रदेश में रात के तापमान में गिरावट का सिलसिला जारी रहेगा। मंगलवार को राजधानी का न्यूनतम तापमान 13.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह शहर का इस सीजन का सबसे कम तापमान है। मध्य प्रदेश में सबसे कम तापमान आठ डिग्री सेल्सियस मलाजखंड में रिकार्ड हुआ।
मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक मध्य प्रदेश में धीरे-धीरे सर्दी बढ़ने लगी है। सर्द हवाओं के चलने के कारण दिन और रात के तापमान में गिरावट का सिलसिला बना हुआ है। इसी क्रम में मंगलवार को राजधानी का न्यूनतम तापमान 13.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से दो डिग्री सेल्सियस कम रहा। यह सोमवार के न्यूनतम तापमान 13.6 डिग्री सेल्सियस की तुलना में 0.4 डिग्री सेल्सियस कम रहा। साथ ही यह इस सीजन में शहर का सबसे कम तापमान भी रहा। इसके पहले एक नवंबर को राजधानी में रात का तापमान 13.4 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया था। मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि पाकिस्तान और उसके आसपास बना पश्चिमी विक्षोभ मंगलवार शाम तक आगे बढ़ जाएगा। इसके बाद मध्य प्रदेश में सर्दी और बढ़ने लगेगी। हालांकि 18 नवंबर को एक अन्य पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत को प्रभावित करने की संभावना है। उसके प्रभाव से 19 नवंबर से तापमान में मामूली बढ़ोतरी हो सकती है।