लापता 11 वर्षीय बच्चे का मिला शव, स्कूल संचालक निकला आरोपी,फिरौती के लिये किया गया था अपहरण

Scn news india

पिंटू तोमर 

भिंड एसपी शेलेन्द्र सिंह चौहान ने प्रेस वार्ता में किया अटेर रोड पर हुए नाबालिक बच्चे के मर्डर का खुलासा

लापता 11 वर्षीय बच्चे का मिला शव, स्कूल संचालक निकला आरोपी

फिरौती के लिये किया गया था अपहरण वीडियो बनाकर हत्याकर फिरौती मांगने की थी साजिश

अपने 5 अन्य साथियों सहित कुल 06 लोगों ने मिलकर घटना को दिया था अंजाम

भिंडl पुलिस अधीक्षक शैलेन्द्र सिंह चौहान व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कमलेश कुमार एवं नगर पुलिस अधीक्षक सुश्री निशा रेड्डी के निर्देशन में 11 वर्षीय बालक का अपहरण कर हत्या का खुलासा कर सभी 06 आरोपीगणों को गिरफ्तार किया गया है। विदित रहे की फरियादी धीरेन्द्र शर्मा नि० श्रीरामनगर अटेर रोड भिण्ड जो कि 21 वीं वाहिनी एसएएफ जिला खैरागढ़ छत्तीसगढ़ में प्रधान आरक्षक के पद पर तैनात है। फरियादी ने दिनांक 08.11.22 को अपने 11 वर्षीय लडके आर्यन शर्मा के गुम होने की सूचना थाना देहात पर दी थी जिस पर से अपराध पंजीबद्ध किया गया। पुलिस अधीक्षक भिण्ड द्वारा घटना की गम्भीरता को देखते हुये स्वयं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, नगर पुलिस अधीक्षक भिण्ड के साथ बच्चे की तलाश में जुट गये थाना देहात पुलिस के साथ-साथ थाना सिटी कोतवाली भिण्ड सायबर सेल भी बच्चे की तलाश में लगा दिये गये पुलिस द्वारा आसपास के सीसीटीवी कैमरे चैक किये गये तथा दो टीम ग्वालियर व इंटावा रवाना की गयीं। दिनांक 09.11.22 सुबह आरकेडी स्कूल के पास खाली प्लाट में प्लास्टिक की बोरी में एक बच्चे के शव की मिलने की सूचना मिली मौके पर पुलिस अधीक्षक सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी पहुंचकर स्वयं पुलिस अधीक्षक भिण्ड द्वारा आरोपी की पतारसी का जिम्मा लिया गया। पुलिस द्वारा घटना स्थल के आसपास एवं बच्चे के सम्पर्क में रहने वालों से जानकारी एकत्रित की गयी तथा आधुनिक तकनीकि व डाग स्क्वॉड टीम द्वारा घटनास्थल का निरीक्षण कराया गया।

पुलिस द्वारा घटना में कड़ी से कड़ी मिलाकर मुखबिर तंत्र सक्रिय कर आरोपी तक पहुंचने का प्रयास किया तो पुलिस द्वारा आरकेडी स्कूल के संचालक पर संदेह गहराता गया जिसे हिरासत में लिया जाकर बारीकी से पूछताछ की गयी तो उसने अपने 5 अन्य साथियों के साथ जुर्म करना कबूल किया तथा बताया कि वर्ष 2019 में कोविड लॉकडाउन होने से वह आर्थिक तंगी में आ गया था तथा क्रिकेट का ऑनलाईन सटटा भी खेलने लगा। जिससे और भी कर्जा बढ़ता गया। उसने जिन लोगों से पैसे ब्याज पर उधार लिये थे वह चुकाने के लिये और लोगों से पैसे उधार ले लिये कर्ज ज्यादा होने से कर्जदार 1 उस पर पैसे वापस करने के लिये दबाव बनाने लगे। इसके चलते उसने शासकीय कर्मचारी के बच्चे का अपहरण करने की योजना बनाई ताकि पैसे का इंतजाम शीघ्र अतिशीघ्र हो सके। करीब 3-4 दिन पहले स्कूल के पास रहने वाले धीरेन्द्र शर्मा छुटटी पर आया था इसी अवसर का आरोपी स्कूल ने फायदा उठाया और गुरुनानक पर्व होने से स्कूल में अवकाश होने से स्कूल में कोई नहीं था। आरोपी स्कूल संचालक ने बच्चे को चोकलेट का लालच देकर इशारे से बुलाया और उसे रस्सी से बेल-खेल में बांध दिया। उसके बाद उसका वीडियो बनाया फिरौती हेतु वीडियो बनाकर योजना के अनुसार उसकी गला घोटकर हत्या कर दी। मोबाईल में इंटरनेट न होने के कारण वीडियो बच्चे के परिजनों को नहीं भेजा जा सका। लाश को ठिकाने लगाने के लिये उसने अपने साले व अन्य आरोपियों का सहयोग लिया। योजना के अनुसार दो लोगों के साथ मोटर साईकिल से रात्रि में स्कूल पर आया। स्कूल संचालक द्वारा शव को उठाकर स्कूल की छत से बगल में पड़े खाली प्लाट में फेंक दिया था उपर से फेंके गये शय को दोनों रिश्तेदारों द्वारा उठाकर ठिकाने लगाना था। पुलिस पर नजर रखने के लिये एक लोग को लगाया गया था। किन्तु पुलिस की सक्रियता एवं घेराबन्दी के कारण भय को दोनों रिश्तेदार नहीं उठा पाये और खाली प्लाट में ही छोडकर भाग गये। मामले में आरोपी स्कूल संचालक समेत सभी 06 आरोपीगणों को हिरासत में लिया गया है। घटना में प्रयुक्त मोटरसाईकिल प्लास्टिक की बोरी रस्सी को जप्त किया गया। उक्त सरहानीय कार्य में निरी विनोद सिंह कुशवाह थाना प्रभारी देहात, निरी जितेन्द्र सावई थाना प्रभारी सिटी कोतवाली उनि रविन्द्र सेंगर, उनि दीपेन्द्र याद उनि शिवप्रताप सिंह, उनि आलोक तोमर, उनि नीतेन्द्र मायई, उनि रवि तोमर, उनि रविन्द्र तोमर, उनि आशीष यादव सउनि रामनरेश टुण्डेलकर, सउनि सत्यवीर सिंह, प्रऔर केशव, भदौरिया, मृगेन्द्र जादौन, सोनेन्द्र, गुरूदास, सुनित तोमर और ज्ञानेन्द्र मिश्रा, अभिषेक गुप्ता, सन्दीप राजावत, बजनन्दन . प्रदीप भदौरिया, रवि यादव की सराहनीय भूमिका रही।