बीजादंडी में आबादी भूमि का ड्रोन द्वारा सर्वे

Scn news india

फिरदौस खान 

स्वामित्व योजना के अंतर्गत ग्राम बीजादंडी में आबादी भूमि का पटवारीअगस्तीन सिरसामऔर बेनीराम धुर्वे राजस्व निरीक्षक द्वारा सीमांकन कर उसमे आने वाले सभी मकानों में चूना लाइन डाली गई , जिसके उपरांत आज ड्रोन द्वारा सर्वे किया गया अब आबादी भूमि में निवासरत लोगों को भूमिस्वामी हक मिल जायेगा अभी तक गांव के घरों पर हमारा मालिकाना हक नहीं है. हक हो जाए और बैंक में हमारे मकान की मान्यता हो जाए तो इससे गांव वालों को फायदा होगा. उसे इमरजेंसी में कोई जरूरत है तो उसे लोन मिल जाएगा. अभी तो गांव में मकान की कोई वैल्यू नहीं है.” ये बातें उन्होंने केंद्र सरकार की तरफ से शुरू की गई स्वामित्व योजना से जुड़े सवाल के जवाब में वे बताते हैं कि अभी तक गांवों के घरों का जिक्र पंचायत के पास परिवार रजिस्टर में होता है. लेकिन केंद्र सरकार की नई पहल से अब इसकी व्यवस्था बदलने वाली है.नीति आयोग की लैंड पॉलिसी सेल के पूर्व प्रमुख और मॉडल लैंड लीजिंग ऐक्ट तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले कृषि अर्थशास्त्री तजाम उल हक कहते हैं, ”यह बेहतरीन योजना है जिसकी काफी वक्त से जरूरत थी. गांवों में संपत्ति के विवाद तो हैं और लंबे समय से चले आ रहे हैं. स्वामित्व योजना से उन विवादों को समाप्त करने और कम करने में भी मदद मिलेगी. गांवों में रिहाइशी संपत्ति को पहचान मिलेगी. योजना से मिले डेटा को आगे चलकर देशभर में गांवों की जमीन के डिजिटाइज्ड डेटा से एकीकृत किया जाएगा. गांवों की रिहाइशी संपत्ति को रिकॉर्ड में एक न एक दिन तो लाना ही था और यह काम शुरू हो गया है.’