स्थानीय युवाओं को रोजगार देने वाले उद्योगों को दी जायेंगी सुविधाएँ : मुख्यमंत्री श्री चौहान

Scn news india

मनोहर

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सरकार ऐसे उद्योग को तमाम सुविधाएँ और सहूलियत देगी जो प्रदेश के स्थानीय निवासियों को रोजगार देगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान गुरूवार को रायसेन जिले की गौहरगंज तहसील के तामोट में सागर टेक्सटाईल मैन्यूफेक्चरिंग प्राइवेट लिमिटेड की 1070 करोड़ रूपये लागत की नई निवेश परियोजना के अनावरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज टेक्सटाईल इंडस्ट्री में मध्यप्रदेश देश के 10 अग्रणी राज्यों में शुमार है। उनकी कोशिश है कि प्रदेश अव्वल स्थान पर पहुँचे। वर्तमान में मध्यप्रदेश के टेक्सटाईल उत्पाद दुनिया के विभिन्न देशों में निर्यात हो रहे हैं और अपनी अलग पहचान भी बनाई है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज तामोट में प्रारंभ उद्योग से प्रदेश के 3 हजार से अधिक बेटे-बेटियों को सीधे रोजगार और बड़ी संख्या में नागरिकों को अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा। इस परियोजना के आने से क्षेत्र का चौतरफा विकास होगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उनका पूरा ध्यान बेटा-बेटियों और भांजे- भांजियों को रोजगार देने पर है। अगले एक वर्ष में एक लाख सरकारी नौकरियाँ और हर माह करीब 2 लाख युवाओं को स्व-रोजगार से जोड़ने की मुहिम चल रही है। मुख्यमंत्री ने सागर ग्रुप में 60 फीसदी कामगार महिलाएँ होने और परिसर को नशा मुक्त बनाने पर संस्थान की तारीफ भी की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि रातापानी डेम बनने से इस क्षेत्र का लगातार विकास हो रहा है। स्थानीय जन-प्रतिनिधियों द्वारा क्षेत्र के विकास के लिए रखी गई माँगों को शीघ्र पूरा किया जायेगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश कृषि के क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। कई उत्पाद जैसे गेहूँ, दलहन-तिलहन में प्रदेश देश में प्रथम स्थान पर है। कृषि में भी रोजगार के अवसरों में वृद्धि हुई है। बढ़ती जनसंख्या को देखते हुए रोजगार बढ़ाने के लिये निवेश एवं अन्य क्षेत्रों में प्रयास करना आवश्यक है। प्रदेश के सभी अंचलों में निवेश बढ़ाया जा रहा है। इसी क्रम में जनवरी 2023 में ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट और प्रवासी भारतीय सम्मेलन इंदौर में किया जा रहा है। इसमें अनेक देशों के साथ बड़े उद्योगपति शामिल होंगे। बड़े-बड़े उद्योगों में युवाओं को रोजगार प्राप्त करने के लिये प्रदेश में आईटीआई स्थापित किये गये हैं।