प्रतिवर्ष रावण दहन से होती है भावना आहत ऐसे रोकने के लिए दिया गया ज्ञापन

Scn news india

मनीष मालवीय 

होशंगाबाद // गौड़वाना गणतंत्र पार्टी ने दशहरे पर रावण दहन की परंपरा बंद करने की मांग । पार्टी के जिला अध्यक्ष राजेश कुमार उइके व कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर ज्ञापन सौंपा। बताया कि रावण को हम आराध्य देव मानते हैं। फागुन के महीने में हम मेंघनाथ और कुंभकरण को पूजते हैं। इन देवों की पूजा हम सुख, शांति और अच्छी फसल के लिए करते हैं। उन्होंने कहा कि महिषासुर को पूजे बिना खेती से संबंधित कोई कार्य नहीं करते। हमारी आदिवासी समाज मेंघनाथ,महिषासुर और रावण को पूजते है। व देश के करीब 15 राज्यों में रावण की पूजा होती है। वही दशहरा पर रावण को दहन से हमारी भावना आहत होती है। रावण दहन रोकने व हमें धार्मिक स्वतंत्रता के लिए कलेक्टर के नाम ज्ञापन सोपा
ज्ञापन के माध्यम से बताया गया है कि संविधान के अनुच्छेद 15,1, 2 और भादवि 1860 के अंतर्गत धारा 153 अ, 298 के तहत यह अपराध है। अनुच्छेद 244, 1 पांचवी अनुसूची क्षेत्रों में 13,3,क, रुढ़ी प्रथा का उल्लंघन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

All rights reserved by "scn news india" copyright' -2007 -2019 - (Registerd-UANO/MP08D0011464/2019/WEB)
error: Content is protected !!