विभागों में कार्यरत अधिकारी-कर्मचारियों को दीपावली के पूर्व दिया जाए वेतन

Scn news india
राजेश साबले जिला ब्यूरो  
  •  छात्रावासों में भोजन बनाने शुरू की गई ठेका पद्धति को नहीं किया जाए लागू
  •  अंशकालीन श्रमिक मजदूर संघ ने रैली निकालकर जिला प्रशासन को 3 सूत्रीय मांगों का सौंपा ज्ञापन
बैतूल। भारतीय मजदूर संघ से संबद्धता प्राप्त अंशकालीन श्रमिक मजदूर संघ ने बुधवार को अपनी जायज मांगों को लेकर रैली निकालकर मुख्यमंत्री के नाम जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा है। वहीं ऑडिटोरियम में एक दिवसीय धरना देकर मांगों को पूर्ण किए जाने का आग्रह किया। अंशकालिक श्रमिक मजदूर संघ जिलाध्यक्ष नत्थू राव चढोकार ने बताया विभाग प्रमुख राजेश मंसूरिया, जिलाध्यक्ष पंजाब राव गायकवाड़, शैलेंद्र बिहारिया, प्रवीण नरवरे के नेतृत्व में सौंपे ज्ञापन में शिक्षा विभागों के अंशकालीन लिपिक, भ्रत्य, चौकीदार, रसोईया, सफाई एवं जलवाहक कर्मचारियों की समस्याओं का निराकरण करने तथा आवासीय छात्रावासों में भोजन बनाने शुरू की गई ठेका पद्धति को लागू नहीं किए जाने की मांग की है। उन्होंने बताया कस्तूरबा गांधी शिक्षा आवासीय छात्रावासों में भोजन बनाने ठेका पद्धति योजना शुरू की गई है, इससे 20 वर्षों से कार्यरत कर्मचारियों और उन पर आश्रितों को भूखे मरने की नौबत आ जाएगी। शासन द्वारा ठेका पद्धति लागू नहीं की जाए। इसके अलावा पंचायत राज विभाग, शिक्षा विभाग के अधीन कार्यरत अंशकालीन कर्मचारी जो 12 वर्ष से अधिक की सेवा पूर्ण कर चुके हैं उन्हें दैवेभो कर्मचारी घोषित किया जाए। इस दौरान संघ ने जिला पंचायत सदस्य शैलेंद्र कुंभारे को भी मांगों से अवगत कराया। शैलेंद्र कुंभारे ने संघ के पदाधिकारियों को शिक्षा समिति की बैठक में मांगों का निराकरण किए जाने की बात कही।
–ऑडिटोरियम में दिया धरना–
अंशकालिक श्रमिक मजदूर संघ जिलाध्यक्ष नत्थूराव चढोकार ने बताया संघ ने जिला मुख्यालय के ऑडिटोरियम में एक दिवसीय धरना देकर जायज मांगों को पूर्ण किए जाने की गुहार लगाई है। धरना स्थल को संबोधित करते हुए भारतीय मजदूर संघ के विभाग प्रमुख राजेश मंसूरिया, जिला अध्यक्ष पंजाब राव गायकवाड़ ने सभी अंशकालिक कर्मचारियों को कलेक्टर दर मिलने और सभी विभागों के अधिकारी-कर्मचारियों का वेतन दीपावली के पूर्व किए जाने की बात कही। धरने का संचालन शैलेन्द्र बिहारिया ने किया। रैली एवं धरना स्थल पर योगेश बालापुरे, बृजलाल कंगाले, वासुदेव घोड़की, धर्मराज झरबड़े, अमित, जगदीश बंजारे, भीम उईके, कैलाश यादव, सुनील पाल, प्रिया पाल, दीप मालवीय सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे।